BREAKING NEWS
Search
oxygen supply

केंद्र सरकार ने पंजाब में ऑक्सीजन आपूर्ति का कोटा बढ़ाया, उत्पादन में भी होगी बढ़ोतरी

100
Share this news...

चंडीगढ़। ऑक्सीजन की कमी को लेकर मच रहे हड़कम के बीच आशा की नई किरण भी फूट रही है। पंजाब में इंडस्ट्री ने 20 टन ऑक्सीजन का उत्पादन बढ़ा दिया है। वहीं, केंद्र सरकार ने पंजाब का कोटे में 20 टन की वृद्धि कर दी है। राज्य और केंद्र से मिलने वाले कोटे को जोड़ दिया जाए तो अब पंजाब में 225 टन ऑक्सीजन उपलब्ध है। जबकि राज्य की एक दिन की मांग 230 से 250 टन के बीच में है। वहीं, अच्छी बात यह है कि आने वाले आने वाले दो सप्ताह में पंजाब की इंडस्ट्री 20 टन के उत्पादन में और बढ़ोत्तरी करने जा रही है।

ऑक्सीजन को लेकर देश में चल रही कमी के बीच पंजाब ने अपनी क्षमताओं को भी बढ़ाना शुरू कर दिया है। पंजाब में 7 इंडस्ट्री ऑक्सीजन का उत्पादन कर रही हैं, जबकि 5 इंडस्ट्री उत्पादन शुरू करने की तैयारी में हैं। दो इंडस्ट्री ऐसी हैं जो पहले ऑक्सीजन का उत्पादन करती थी, लेकिन कई वर्षों पहले इसे बंद कर दिया था। यह इंडस्ट्री उप्तादन करने की क्षमता अब नहीं रखती है, जबकि 10 यूनिट रीफिलिंग कर रही है। इंडस्ट्री डिपार्टमेंट के आंकड़े बताते हैं कि 5 इंडस्ट्री आने वाले एक सप्ताह से लेकर तीन सप्ताह के बीच में उत्पादन शुरू कर देगी। जो कि 20 टन तक उत्पादन कर सकती है।

केंद्र ने कोटा बढ़ाया

पंजाब में ऑक्सीजन की मांग को देखते हुए केंद्र सरकार ने 20 टन ऑक्सीजन का कोटा बढ़ा दिया है। डायरेक्टर इंडस्ट्री सिब्बन सी. ने बताया कि अभी तक सेंट्रल कोटे से 145 टन ऑक्सीजन मिल रहा था। केंद्र ने 20 टन और कोटा बढ़ा दिया है। बता दें कि तीन दिन पूर्व ही मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ऑक्सीजन का कोटा बढ़ाने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को पत्र लिखा था। पंजाब में अब सेंट्रल कोटे से 165 टन ऑक्सीजन मिलेगी, जबकि 60 टन पंजाब का अपना उत्पादन है।

ऑक्सीजन सिलेंडर की किल्लत नहीं झेलनी पड़ेगी

कोरोना के बढ़ते मरीजों को देखते हुए ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी भी सामने आ रही थी। एक तरफ स्वास्थ्य विभाग ने 1000 ऑक्सीजन सिलेंडर को खरीदने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। वहीं, दूसरी तरफ राज्य सरकार द्वारा इंडस्ट्रियों के बाद पड़े ऑक्सीजन सिलेंडर को मेडिकल क्षेत्र में प्रयोग करने की दिशा में उठाए गए कदम अब रंग लाने लगे हैॆ।

राज्य की 104 के करीब इंडस्ट्रियों के पास 7178 मेडिकल सिलेंडर है। इसमें से इंडस्ट्री ने 4091 सिलेंडरों को स्वास्थ्य सेवाओं में उपयोग करने के लिए दे दिया है, जबकि 604 और सिलेंडर स्वास्थ्य विभाग को सुपुर्द कर दिए गए हैं। बाकी के सिलेंडरों का इंडस्ट्रियल यूज हो रहा है। माना जा रहा है कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा आर्डर दिए गए 1000 सिलेंडर की सप्लाई मिलने के बाद राज्य में ऑक्सीजन सिलेंडर की किल्लत न के बराबर हो जाएगी।

Share this news...