Ratlam Protest

सहकारीता बैंक के कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ अर्धनग्न होकर किया विरोध प्रदर्शन

128
Ashok Parmar

अशोक परमार

रतलाम। मध्यप्रदेश सहकारी संस्थाए कर्मचारी महासंघ भोपाल के आव्हान पर प्रदेश के साथ साथ आलोट में भी सहकारी कर्मचारियो ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर बुधवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल की शुरुआत की।

हड़ताल की वजह से किसानों को दिक्क्तों का सामना करना पड़ा। क्योंकि वर्तमान में गेहू के पंजीयन का कार्य चल रहा है और 22 फरवरी पंजीयन की अंतिम तारीख थी। जिसकी वजह से कई किसान अपना पंजीयन नहीं करवा पाये हैं। और अगर यह हड़ताल लंबी चली तो चने का पंजीयन भी किसान नहीं करवा पायगें।

गेहूं के पंजीयन का कार्य आज पूरी तरह से प्रभावित रहा। अगर किसानों का पंजीयन नहीं हुआ तो शासन के समर्थन मूल्य का लाभ किसनों को नहीं मिल पायेगा। आज गेहूं के पंजीयन का अंतिम दिन है और सहकारी संस्थाओं में ताले लगे हुये हैं। ऐसे में किसानों के पास कोई विकल्प नहीं बचा है।

वहीं सहकारी संस्थाओं में हड़ताल के चलते उपभोक्ता भंडार भी बंद है। जिसके कारण गरीब परिवार को राशन नहीं मिल पाया। हड़ताल के प्रथम दिन ग्राम तालोद के सहकारी कर्मचारी लेखन सिह ने अपना सिर मुंडवाकर व अर्धनन्गन होकर विरोध दर्ज करवाया। सहकारी नेता कुशाल सिह मोहम्मद बेलीम राजीव शर्मा नटवर राव बैरागी हेमंत गेहलोत नटवर राव वीरेंद्र सिंह सोलंकी सहित समस्त कर्मचारीयो ने बताया कि जल्द ही हमारी मांगे नहीं मानी गई तो और उग्र आंदोलन होगा। जिसमें भूख हड़ताल भी शामिल है।

हम लोग राज्य सरकार की समस्त योजनाओं का संचालन करते हैं। इसलिये हमें राज्य कर्मचारी का दर्जा मिलना चाहिए और हमारे लिए जिला कैडर, वेतनमान लागू होना चाहिये। जबतक हमारी मांगे पूरी नहीं की जाती अनिश्वतकालीन हड़ताल चलती रहेगी। – “राजेंद्र शर्मा (जिलाध्यक्ष कर्मचारी संघ)”