BREAKING NEWS
Search
कांग्रेस

कांग्रेसी नेता और राज्यसभा सांसद डा० संजय सिंह बनारस में, प्रधानमंत्री मोदी पर लगाया गंभीर आरोप

555
Share this news...

रॉफेल डील को लेकर प्रधानमंत्री को विपक्ष द्वारा घेरने की कोशिश तेज़…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

वाराणसी: रॉफेल डील को लेकर विपक्ष किसी तरह की कोर-कसर नही छोड़ना चाहता। इसी कड़ी में आज कांग्रेस के राज्यसभा सांसद डॉ संजय सिंह ने आज प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र में आकर मोदी पर गंभीर आरोप लगाते हुये कहा कि रॉफेल डील में केंद्र सरकार ने गड़बड़िया की हैं। प्रधानमंत्री ने फ्रांस जाकर इस डील के लिए गोलबंदी की और पैसे खाए हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जो आरोप लगाया है वह बिल्कुल सत्य है। यूपीए सरकार में जो डील हुई थी उसके तीन गुना ज्यादा दाम पर इसकी खरीदारी की जा रही है। यूपीए सरकार ने उस समय तकनीकी ट्रांसफर की शर्त रखी थी अब वह शर्त गायब है। इस मुद्दे पर अब रक्षा मंत्री भी चुप हैं, वित्त मंत्री चुप हैं।

ज्ञात हो कि इस पूरे प्रकरण में प्रधानमंत्री को बचाने के लिए पूरी भाजपा जवाब देने से कतरा रही है। बनारस क्लब में बातचीत के दौरान डा। सिंह ने कहा कि बोफोर्स मुद्दे पर हाईकोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व। राजीव गांधी को क्लीन चिट दे चुकी है। फिर इस मुद्दे को उछालने का कोई मतलब नहीं है। लेकिन पिछले चार सालों में यह सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है।

करोड़ो युवा बेरोजगार हैं। लोगों के काम धंधे बंद हो गए हैं। नोटबंदी और जीएसटी से हर तरफ त्राहि-त्राहि मची है ऐसे में लोगों का ध्यान बांटने के लिए यह मुद्दा उठाया गया है। भाजपा सरकार ने पूरे देश को हाशिये पर डाल दिया है ऐसे में वरुण गांधी को पार्टी में हाशिये पर लाया तो क्या?

उनके नाम के साथ गांधी लगा है तो उन्हें भी पीछे धकेल दिया है। वहीं अमिता सिंह डॉक्टर संजय सिंह की पत्नी ने अखिल भारतीय प्रोफेशनल कांग्रेस के गठन के बाबत कहा कि यह राहुल गांधी की अच्छी सोच है। यह वैसे ही जैसे कभी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी देश में कंप्यूटर लाए। तब कंप्यूटर का हर तरफ विरोध हो रहा था। लेकिन आज सब उसका इस्तेमाल कर रहे हैं। राहुल गांधी की यह नई सोच भी कामयाब होगी और आने वाले दिनों में यह प्रोफेशनल कांग्रेस की योजना काफी सफल होगी। इसके दूरगामी परिणाम होंगे।

राज्यसभा में रेणुका और प्रधानमंत्री विवाद पर कहा कि यह महिलाओं का अपमान है।  प्रधानमंत्री को इस पद की गरिमा का खयाल रखना चाहिए था। संसद में हंसी मजाक होते रहते हैं लेकिन जिस तरह से उन्होंने लक्ष्य करके कांग्रेस सांसद का नाम लेकर उन पर टिप्पणी की वह उचित नहीं।

हालांकि पूरे देश में और प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में पकोड़े प्रकरण को लेकर पहले से ही काफी हल्ला मच चुका है,  सोशल मीडिया पर तो कई जगह एग्जाम की तरह एक क्वेश्चन पेपर भी आ चुका है सारे क्वेश्चन पकोड़े से ही संबंधित हैं देखना यह होगा कि देश पर कई दशक तक राज करने वाले कांग्रेस आगामी चुनाव में बाजी मारती है या सभी पार्टियों के विरोध के बाद भी प्रधानमंत्री के दूसरे कार्यकाल का राज्याभिषेक होगा यह तो आने वाला समय एवं 2019 का संसदीय चुनाव का परिणाम बताएगा।

Share this news...