BREAKING NEWS
Search
home quarantine

होम आइसोलेटेड संक्रमितों की वीडियो कॉल से होगी मॉनीटरिंग, खुद कर सकते हैं इन नंबरों पर फोन

190

Patna: बिहार में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। पटना तो राज्य का हॉटस्पॉट बना हुआ है। राजधानी में अबतक सात हजार से अधिक संक्रमित मिल चुके हैं। कोरोना से संक्रमित लोगों के होम आइसोलेटेड होने की बढ़ती संख्या को देखते हुए जिला प्रशासन ने डेडिकेटेड कंट्रोल रूम स्थापित कर दिया है। कंट्रोल रूम में वरीय उपसमाहर्ता कुमारिल सत्यानंद को नोडल पदाधिकारी बनाते हुए पर्याप्त संख्या में कर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। होम आइसोलेटेड लोगों के लिए डेडिकेटेड यह टीम प्रतिदिन फोन कर संक्रमितों का हाल-चाल जानेगी। जिससे मरीजों का इलाज होने में आसानी हो सकेगी।

जरूरत पड़ने पर भेजी जाएगी दवा

इस क्रम में संक्रमितों में अगर कोई समस्या पाई जाएगी तो उन्हें तत्काल टेलीमेडिसीन के लिए प्रतिनियुक्त डाक्टरों की सूची उपलब्ध कराई जाएगी। डॉक्टर से वाट्सऐप नंबर 6287590584 और 6287590581 पर वीडियो कॉल कर चिकित्सकीय सलाह ली जा सकती है। दूरभाष संख्या 0612- 2508036 और 2508032 पर भी डॉक्टर से बात की जा सकती है। इन नंबरों से होम आइसोलेटेड व्यक्तियों के स्वास्थ्य की पूरी मॉनीटरिंग हो सकेगी। जरूरत पड़ने पर संक्रमितों को दवा भेजने की भी व्यवस्था की प्रशासन की तरफ से की जाएगी।

संक्रमित पाए जाने पर दस दिनों तक मिलेगी सुविधा

राजधानी में संक्रमित पाए जाने के बाद दस दिनों तक मरीजों को यह सुविधा उपलब्ध होगी। जिलाधिकारी कुमार रवि ने यह जानकारी दी। डीएम कुमार रवि ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष 0612- 2249964 और जिला नियंत्रण कक्ष 0612- 2219090 से भी संक्रमितों की सूची को डेडिकेटेड कंट्रोल रूम को उपलब्ध करा दी जाएगी, जहां से चिकित्सकीय परामर्श दिया जाएगा। पटना शहरी क्षेत्र के संक्रमितों के लिए स्थापित यह नियंत्रण कक्ष प्रतिदिन सुबह नौ बजे से कार्य करेगा। शाम चार बजे तक लगातार जारी रहेगा। डीएम ने अन्य क्षेत्रों के लिए अनुमंडल स्तर पर ऐसे कंट्रोल रूम खोलने का निर्देश अनुमंडल पदाधिकारियों को दिया है।

बिहार में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। पटना तो राज्य का हॉटस्पॉट बना हुआ है। राजधानी में अबतक सात हजार से अधिक संक्रमित मिल चुके हैं। कोरोना से संक्रमित लोगों के होम आइसोलेटेड होने की बढ़ती संख्या को देखते हुए जिला प्रशासन ने डेडिकेटेड कंट्रोल रूम स्थापित कर दिया है। कंट्रोल रूम में वरीय उपसमाहर्ता कुमारिल सत्यानंद को नोडल पदाधिकारी बनाते हुए पर्याप्त संख्या में कर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। होम आइसोलेटेड लोगों के लिए डेडिकेटेड यह टीम प्रतिदिन फोन कर संक्रमितों का हाल-चाल जानेगी। जिससे मरीजों का इलाज होने में आसानी हो सकेगी।

जरूरत पड़ने पर भेजी जाएगी दवा

इस क्रम में संक्रमितों में अगर कोई समस्या पाई जाएगी तो उन्हें तत्काल टेलीमेडिसीन के लिए प्रतिनियुक्त डाक्टरों की सूची उपलब्ध कराई जाएगी। डॉक्टर से वाट्सऐप नंबर 6287590584 और 6287590581 पर वीडियो कॉल कर चिकित्सकीय सलाह ली जा सकती है। दूरभाष संख्या 0612- 2508036 और 2508032 पर भी डॉक्टर से बात की जा सकती है। इन नंबरों से होम आइसोलेटेड व्यक्तियों के स्वास्थ्य की पूरी मॉनीटरिंग हो सकेगी। जरूरत पड़ने पर संक्रमितों को दवा भेजने की भी व्यवस्था की प्रशासन की तरफ से की जाएगी।

संक्रमित पाए जाने पर दस दिनों तक मिलेगी सुविधा

राजधानी में संक्रमित पाए जाने के बाद दस दिनों तक मरीजों को यह सुविधा उपलब्ध होगी। जिलाधिकारी कुमार रवि ने यह जानकारी दी। डीएम कुमार रवि ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष 0612- 2249964 और जिला नियंत्रण कक्ष 0612- 2219090 से भी संक्रमितों की सूची को डेडिकेटेड कंट्रोल रूम को उपलब्ध करा दी जाएगी, जहां से चिकित्सकीय परामर्श दिया जाएगा। पटना शहरी क्षेत्र के संक्रमितों के लिए स्थापित यह नियंत्रण कक्ष प्रतिदिन सुबह नौ बजे से कार्य करेगा। शाम चार बजे तक लगातार जारी रहेगा। डीएम ने अन्य क्षेत्रों के लिए अनुमंडल स्तर पर ऐसे कंट्रोल रूम खोलने का निर्देश अनुमंडल पदाधिकारियों को दिया है।