BREAKING NEWS
Search
Coronavirus can be very dangerous for some peoples

वैज्ञानिकों का खुलासा, कुछ लोगों में इसलिए गंभीर रूप ले लेता है कोरोना वायरस!

231

New Delhi: वैज्ञानिक धीरे-धीरे इस गुत्थी को सुलझा रहे हैं कि कोरोना वायरस क्यों कुछ लोगों को गंभीर रूप से बीमार कर देता है, वहीं कुछ लोग इससे जल्दी उबर जाते हैं? हाल ही में हुए शोध से ये पता चला है कि वायरस हमारे इम्यून सिस्टम को उत्तेजित कर देता है।

एक्सपर्ट्स का मानना है कि वायरस से लड़ने के लिए सही कोशिकाओं और अणुओं को तैयार करने में असमर्थ होने पर, संक्रमित व्यक्ति का शरीर मानों हथियारों का एक पूरा शस्त्रागार लॉन्च कर देता है, लेकिन ये गुमराह आक्रमण स्वस्थ ऊतकों पर कहर बरपा सकता है।

येल विश्वविद्यालय के इम्यूनोलॉजिस्ट अकीको इवासाकी, ने कहा कि हम इस वायरस से हो रहे संक्रमण के अलग-अलग चरण में कई अजीब चीज़ें अनुभव कर रहे हैं।

इन असामान्य प्रतिक्रियाओं का अध्ययन करने वाले शोधकर्ता को ऐसे पैटर्न मिल रहे हैं, जो मरीज़ों को दो भागों में बांट रहे हैं, एक जो जल्दी ठीक हो जाते हैं और दूसरे जिनमें बीमारी गंभीर रूप ले लेती है। इस अध्ययन से मिले डेटा मरीज़ों के इलाज में काम आ सकता है। जैसे लक्षणों को कम करना या फिर इससे पहले ये वायरस गंभीर रूप लेस इसे शांत कर देना।

कैसे काम करती है इम्यूनिटी

जब फ्लू वायरस जैसा एक अधिक परिचित श्वसन संक्रमण, शरीर में पैर जमाने की कोशिश करता है, प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया दो आयोजित तरीके में रक्षा शुरू करती है। सबसे पहले, तेज़ी से आक्रमण करने वाले लड़ाकू एक समूह संक्रमण के स्थल पर पहुंच जाते हैं और आक्रमणकारी को पुष्ट करने की कोशिश करते हैं, जिससे बाकी प्रतिरक्षा प्रणाली समय पर एक और सिलसिलेवार हमला कर सकती है।

अधिकांश प्रारंभिक प्रतिक्रिया साइटोकिंस नामक सिग्नलिंग अणुओं पर निर्भर करती है जो वायरस के जवाब में उत्पन्न होते हैं।

आखिरकार, शुरुआती चार्ज लेने वाले ये सेल और अणु हथियार डाल देते हैं, और एंटीबॉडीज़ और टी-सेल्स के लिए रास्ता बनाते हैं। जो, विशेष हत्यारे होते हैं, जो कोशिकाओं को संक्रमित करने वाले वायरस पर हमला करते हैं। लेकिन यह समन्वित अटैक कोविड-19 के गंभीर मरीज़ों में टूटने लगता है।

कोरोना की गंभीर स्थिति

कोरोना के ऐसे मरीज़ जिनकी हालत गंभीर हो जाती है, उनमें साइटोकिन्स अपना काम बंद नहीं करते और अटैक जारी रखते हैं। यहां तक कि एंटीबॉडीज़ और टी-कोशिकाओं के आने के बावजूद वो अपना काम जारी रखते हैं। इसका मतलब ये कि साइटोकिन्स अपना काम जारी रखते हैं, जबकि उनकी ज़रूरत नहीं होती। इससे शरीर को क्षति पहुंचती है।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि वायरल संक्रमण के दौरान शरीर में इंफ्लामेशन विकसित होना आम है, लेकिन परेशानी तब आती है जब इसे ठीक करना नामुमकिन हो जाता है।