BREAKING NEWS
Search
CoronaVirus

देवी मां नें सपने में आकर बताया कोरोना वायरस को भगाने का तरीका, देवी मां की बात माना तो पहुँच गया जेल

504

कोरोना वायरस केवल कोविड-19 जैसी जटिल बीमारी से ही नही, बल्कि उसको लेकर उपझे सुपरस्टिशन भी लेने लगा है जान… एक ऐसा ही मामला उड़़िसा के कटक जिले के नरसिंहपुर का है..

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से कोविड-19 नाम की बीमारी होती है जो मानव के श्वस्नतंत्र को बिल्कुल ध्वस्त करने में सक्षम है।

इन जानलेवा बीमारी के वायरस यानि Novel Corona Virus संक्रमित व्यक्ति द्वारा सांस, छींक, खांसी, टच, हाईजीनिक तरीकों के न इस्तमाल से बहुत तेजी से फैलता है और फैल रहा है। चीन के वुहान में चल रही एक वायरोलॉजी लैब से यह वायरल बाहर आया और पूरे विश्व में अब तक लाखों जान ले चुका है।

कोरोना वायरस के संक्रमण से मानव जाति को बचाने के लिये दुनियाभर के R&D यानि रिसर्च और डेवलपमेंट डिपार्टमेंट में लगातार शोध चल रहा है। हालांकि हर सुधी व्यक्ति समझता है कि कोरोना अब यहां से जाने वाला नही है, वो यहीं हमारे साथ इसी दुनिया में रहेगा। लेकिन इसकी वैक्सीन बन जाने से यह वायरस व्यक्ति (जिसे Vaccine लगी हो) पर असर नही करेगा।

लेकिन अनपढ़ और खुद को महाज्ञानी समझने वाले लोगो को किसी Vaccine का इंतजार नही है, उन्हे लगता है केवल तंत्र-मंत्र से ही कोरोना को भगाया जा सकता है। इन्ही जाहिलों में से एक नें सारी सीमायें लांघ डाली। असल में एक अंधविश्वासी पुजारी ने मंदिर में एक युवक का सर काट कर बलि चढ़ा दिया ताकि कोरोना दूर हो जाये।

विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार घटना उड़ीसा की है। उड़ीसा के कटक जिले के नरसिंहपुर स्थित बंधुहुआ में मंदिर के पुजारी ने ऐसी घिनौनी हरकत किया है। उसने कोरोना वायरस को भगाने के लिए एक व्यक्ति का सर काट कर देवी माँ के मंदिर में चढ़ा दिया। पुजारी को विश्वास था कि देवी माँ खुश होकर कोरोना संकट टाल देगीं।

लेकिन एेसा होने के बजाये पुलिस नें पुजारी को गिरफ़्तार कर लिया। शुरुअाती पूछताछ में पुजारी ने कबूला कर लिया कि उसे अक्सर रात में सोते समय देवी माँ सपने में आकर दर्शन दिया करती थीं और बताती थी कि मुझे नरबलि देकर नरमुंड और रक्त भेंट करोगे तो मैं पूरे भारतवर्ष को कोरोना वायरस से आज़ादी दिलवा दूँगी।

लगातार एक ही सपना देख-देखकर पुजारी की बुद्धि फिर गयी और वह किसी युवक की तलाश में लग गया। पुजारी ने उक्त ब्राह्मणी देवी मंदिर परिसर में इस विभत्स घटना को अंजाम दिया। स्थानीय पुलिस ने हत्या के लिए प्रयुक्त हथियार को जब्त कर लिया है, और आरोपी पुजारी संसार ओझा को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

आरोपी पुजारी ने कोरोना वायरस को भगाने के नाम पर हत्या करना कबूल कर लिया है। वही पुलिस मामले में किसी और के भी हाथ होने की जानकारी इकठ्ठा कर रही है।

पुलिस ने मृतक की पहचान सरोज कुमार प्रधान के तौर पर किया है। पुलिस सूत्र बताते है कि आरोपी से तहकीकात में एक और बात कबुली है कि वर्तमान में लॉक डाउन के चलते मंदिर में दर्शनार्थियों की कमी थी इस लिए मंदिर में दान/चढ़ावा नहीं मिल रहा था इससे पुजारी दुखी भी था।