BREAKING NEWS
Search
swaraj bhawan

कोटेदारों की हड़ताल से ग्रामीणों के निवाले पर संकट

488
परविन्दर राजपूत की रिपोर्ट-
आगरा। जिले में कोटेदारों की हड़ताल से 6.54 लाख परिवारों के निवाले पर संकट हैं। इस कारण परिवारों के 26.57 लाख लोगों को गेहूं-चावल नहीं मिल पा रहा। ऐसे में इनको परिवार चलाना मुश्किल हो रहा हैं।

जिले में 41 आधार संख्या से 8464 बार फर्जी तरीके से उपयोग कर करीब 2500 क्विंटल राशन की चोरी की। घोटाला सामने आने पर 55 कोटेदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया और 53 के लाइसेंस निलंबित कर दिए गए। 

इसके खिलाफ कोटेदार पांच सितंबर से हड़ताल पर चले गए हैं। दुकानों बंद होने से 26.57 लाख लोगों को राशन नहीं मिल पा रहा हैं। लगभग सभी परिवार का इसी सस्ते राशन से परिवार का पेट भरा जाता हैं। अधिकांश परिवारों में पिछले महीने का राशन भी खत्म हो गया हैं। 

ऑल फेयर प्राइज शॉप डीलर्स फेडरेशन के जिलाध्यक्ष देवकीनंदन दीक्षित ने बताया कि मुकदमा वापसी, कमीशन बढ़ाने, होम डिलीवरी जैसी मांगों के लिए कोटेदार हड़ताल पर हैं, जब तक ये मांगें पूरी नहीं होंगी, राशन का वितरण नहीं किया जाएगा।

वहीं इस संबंध में डीएसओ उमेश चंद्र मिश्रा ने कहा कि एसोसिएशन की प्रदेश कार्यकारिणी से वार्ता होने के बाद हड़ताल खत्म कर दी थी। यहां की एसोसिएशन से बात कर जनहित में राशन वितरण को कहेंगे।

प्रति यूनिट (सदस्य) पांच किग्राम राशन मिलता हैं। इसमें तीन किग्रा गेहूं और दो किग्रा चावल रहता हैं। प्रति कार्डधारक को दो लीटर मिट्टी का तेल भी दिया जाता हैं। कार्डधारक को दो रुपये प्रति किग्रा गेहूं और तीन रुपये प्रति किग्रा चावल का भुगतान करना होता हैं।

नरायच निवासी सरोज देवा ने बताया कि घर में पांच सदस्य हैं। पिछले महीने का राशन भी खत्म हो गया हैं। जल्द राशन नहीं मिला तो परेशानी होगी। वहीं ककरैठा की लज्जा देवा ने कहा कि घरों में काम कर परिवार चलाती हूं। राशन नहीं मिला तो दिक्कत खड़ी होगी। दुकान के कई बार चक्कर काट चुकी हूं।

उधर, ऑल फेयर प्राइज शॉप डीलर्स फेडरेशन ने पालीवाल पार्क में बैठक कर हड़ताल जारी रखने का एलान किया। हड़ताल को प्रभावी बनाने के लिए अब कोटेदार विधायक और सांसदों को चार सूत्री मांगों का ज्ञापन देंगे।

महानगर अध्यक्ष सतेंद्र यादव ने कहा कि 200 रुपये प्रति क्विंटल और होम डिलीवरी खाद्यान्न पहुंचाया जाए, राशन घोटाले में विभागीय जांच कराई जाए। मांग पूरी न होने तक दुकान नहीं खोलेंगे। बैठक में बहाबुद्दीन, सुरेंद्र सिंह, मुन्नालाल बंसल समेत कई लोग मौजूद रहे।