dengue attack

बेगूसराय में डेंगू बुखार ने दिया दस्तक, स्वास्थ्य विभाग की विफलता का सबूत

338
Moinul Haque

मोईनुल हक़ नदवी

बेगूसराय। मंगलवार को बेगूसराय के एक निजी हॉस्पिटल अल शिफा कचहरी रोड स्थित एक ऐसा मरीज मिला है, जिसके अंदर डेंगू के लक्षण पाए गये है। आपको बताते चलें  कि पैथोलॉजी रिपोर्ट के आधार पर डॉ. मो इरशाद आलम एमबीबीएस एमडी ने डेंगू मर्ज़ की पुष्टि किया है।

आपको अवगत कराते चलें कि साफ सफाई के नाम पर नगर निगम के पास करोड़ों का बजट होता है कि नगर को साफ रखा जाए और साथ ही कीटनाशक व धुआं कर ऐसे घातक मच्छरों को पनपने से रोका जाए। उसके लिए दवाओं का छिड़काव को सुनिश्चित किया जाना था। लेकिन अफ़सोस नगर निगम गहरी नींद में सो रहा है। यहां कभी नाले के ढक्कन के खुले कारण किसी मासूम बच्चे की मौत हो जाती है, तब कहीं कुछ छनों के लिए नगर प्रशासन जागता है और फिर वापस सो जाता है।

आज जबकि डेंगू के कुछ ही मरीज सामने आ पाते हैं, जबकि कितने मरीज तो ऐसे भी होते होंगे कि उनको अभास ही नही हो पाता है, किया ये ड़ेंगू या टाइफाइड बुखार, ऐसे में स्वस्थ विभाग व नगर निगम को अलर्ट हो जाना चाहये ताकि किसी महामारी से बचा सके।

आज एक मरीज़ फैसल इरशाद जो कि नगर के एक हॉस्पिटल अल्शिफ़ा में भर्ती है जिसकी हालत दैनीय है और उसके जैसे और भी कई मरीज़ जिला के डॉक्टरों के चक्कर लगाने पर मजबूर हैं। अगर सही समय पर दवा का छिड़काव किया जाता तो शायद बहुत से गरीबों के पैसों पर डाका डलने से बचाया जा सकता था।

बहरहाल अभी भी कोई ज़्यादा देर नही हुई,इससे पहले के ये बीमारी और पैर फैलाये और महामारी का रूप धारण करे, स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम को अलर्ट हो जाना चाहये। हम कामना करते हैं कि कोई किसी के जान की छति न हो, भगवान सबको स्वास्थ्य व तन्दुरुस्ती दे।