फायरिंग

बनारस में क्रास फायरिंग में दो बदमाशों की मौत, एक के 50 हजार के ईनामी अपराधी रईस बनारसी होने की खबर

260

शहर के दशाश्वामेध थानाक्षेत्र में दो बदमाशों के बीच हुई फायरिंग में राकेश अग्रहरि नाम के बदमाश की मौत, दूसरा मृत व्यक्ति हो सकता है 50 हजार का ईनामी रईस बनारसी…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: शुक्रवार की शाम काशी के लिये खूनी साबित हुई है, आज शाम यहां दशाश्वामेध थानाक्षेत्र के देवनाथपुरा इलाके के बंगाली टोला के पातालेश्वर मंदिर क्षेत्र में हुई क्रॉस फायरिंग में दो लोगों की मौत हो गई। पहले व्‍यक्‍ति‍ की मौत जहां घटनास्‍थल पर ही हुई है, वहीं दूसरे की मौत कबीर चौरा अस्‍पताल में हुई है।

स्‍थानीय लोगों के अनुसार राकेश अग्रहरि‍ नामक व्‍यक्‍ति‍ अपने घर के बाहर चबूतरे पर बैठा था इसी बीच मोटर साईकिल से आये दो लोगो ने उसे गोली मार दिया जिससे घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई। पुलि‍स के अनुसार इस जगह पर क्रॉस फायरिंग हुई है, जि‍समें एक की घटनास्‍थल पर ही मौत हुई है, जबकि‍ दूसरे युवक को उसका मोटरसाइकि‍ल सवार साथी भगाकर नई सड़क के लंगड़ा हाफि‍ज मस्‍जि‍द तक ले आया और वहीं छोड़कर भाग खड़ा हुआ। मस्‍जि‍द में नमाज पढ़ रहे लोगों ने उसे कबीर चौरा पहुंचाया जहां उसने दम तोड़ दि‍या।

रईस बनारसी

Man who after shootout at Devnathpura reached Langda Hafiz Masjid at Nai Sadak might be rewarded criminal Rais Siddiqui alias Rais Banarasi…

दशाश्‍वमेध थानाक्षेत्र का पातालेश्वर मंदिर इलाका आज उस समय गोली की आवाज़ से गूँज उठा जब बंगाली टोला पातालेश्वर मंदिर के पास अपने जनरल स्टोर की दूकान के बाहर चबूतरे पर बैठे राकेश अग्रहरि को अज्ञात हमलावरों ने गोलियों का निशाना बना दिया। गोली से घायल राकेश को स्थानीय और परिजन कबीरचौरा अस्पताल लेकर पहुंचे जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

राकेश अग्रहरि जमीद की दलालीे करता था और आपराधिक छवि का था। पुलिस के अनुसार राकेश ने लगभग डेढ़ वर्ष पूर्व 1 मई 2017 को अपनी सौतेली माँ मीरा अग्रहरि को 3 गोली मारकर उनकी हत्या का प्रयास किया था, इस मामले में मृतक जेल गया था।

उधर चौक थाना क्षेत्र के लंगड़ा हाफ़िज़ मस्जिद के पास जिस व्यक्ति को उसका मोटर साईकिल सावर छोड़ कर भाग गया था उसने मस्जिद के अंदर पहुँचकर होश खो दिया। नमाजियों और स्थानीय लोगो नें उसे आनन-फानन में कबीर चौरा मण्डलीय अस्पताल पहुँचाया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मृत व्यक्ति के जनपद के 50 हज़ार के इनामिया अपराधी रईस बनारसी के होने की सूचना है।

मौके पर पहुंचे पुलिस के आला अधिकारी मृतक की शिनाख्त करने में लगे हैं। रईस बनारसी के ऊपर उत्तर प्रदेश पुलिस ने 50 हज़ार का इनाम घोषित कर रखा है।

शुक्रवार की देर शाम पहले ये खबर उड़ी कि‍ चौक थानाक्षेत्र के लंगड़ा हाफिज मस्जिद के पास गोली चली है, जि‍समें एक व्‍यक्‍ति‍ की मौत हो गयी है। बाद में पुलि‍स ने इस बात को स्‍पष्‍ट कि‍या कि‍ दशाश्‍वमेध थानान्‍तर्गत देवनाथपुरा इलाके में क्रास फायरिंग में दोनों जानें गयी हैं।

अज्ञात व्यक्ति की शिनाख्त के लिए लगे हुए पुलिस प्रशासन के सूत्रों की माने तो 50 हज़ार के इनामिया रईस बनारसी के ऊपर जाकर टिक गयी है। सूचनाओं के आधार पर मरने वाला शख्स अपराध की दुनिया में मज़बूती से आगे बढ़ रहा रईस बनारसी ही है।

बताते चलें कि अपराध का पर्याय रईस बनारसी कानपुर में चर्चित शानू ओलंगा समेत आधा दर्जन से ज्यादा हत्याओं में शामिल था। प्रदेश की पुलिस के लिए सिरदर्द बना यूपी का चर्चित बदमाश रईस सिद्दीकी उर्फ रईस बनारसी 22 अक्टूबर को बनारस की जिला जेल से बरेली शिफ्ट करते वक्त रास्ते में पुलिस वैन से कूदकर भाग निकला था।

सूत्र बताते हैं कि राकेश अग्रहरि ईनामी अपराधी रईस बनारसी का साथी था और दोनो साथ-साथ रहते थे, पुलिस यह पता लगानें में जुटी है कि दोनो नें एक-दूसरे पर फायरिंग क्यो की। दूसरी सबसे बड़ी बात यह कि गर्दन में गोली लगने के बाद भी दूसरे बदमाश को नई सकड़ की लंगड़ा हाफिज मस्जिद तक पहुँचाने वाला व्यक्ति कौन था। उल्लेखनीय है कि राकेश अग्रहरि के पास से एक 9mm की पिस्टल पुलिस नें बरामद किया है जबकि दूसरे बदमाश जिसे रईस बनारसी माना जा रहा है उसके कब्जे से कोई हथियार नही मिला है। पुलिस को संदेह है हेलमेट लगाये हुये जिस व्यक्ति नें बाईक से घायल बदमाश को मस्जिद तक पहुँचाया था वो उसका हथियार अपने साथ ले गया होगा।

मौके पर कई थानों की पुलिस के साथ-साथ आला अधिकारी पहुँच गये थे और घटना से सम्बंधित तमाम पहलुओं की जांच की जा रही है, यदि मारा गया दूसरा व्यक्ति वास्तव में रईस सिद्दीकी उर्फ रईस बनारसी था तो पुलिस के लिये यह राहत की बात होगी।