BREAKING NEWS
Search
domchanch school

फूड पाइजनिंग से हुई बच्चे की मौत, कई की हालत गंभीर

382
rajesh kumar mehta

राजेश कुमार मेहता

कोडरमा (डोमचांच)। क्षेत्र के नावाडीह उत्क्रमित मध्य विद्यालय मध्यम भोजन करने के पश्चात लगभग 100 से ज्यादा बच्चे बीमार हो गये। जबकि एक बच्चे की मौत हो गई। बाताय जाता हैं कि विद्यालय में मध्यम भोजन मैं बच्चों को चने की सब्जी खिलाई गई। संभावना वक्त की जाती हैं की इस सब्जी को खाकर जब बच्चे घर लौटे तो बच्चे बीमार हो गए।

सभी बच्चों को घर में हालत बिगड़ने लगी। कई बच्चे उल्टी करने लगे तो अभिभावक में कोहराम मच गया। बाद में देर शाम कई वाहनों में लादकर बच्चों को कोडरमा सदर अस्पताल पहुंचाया गया।

अस्पताल जाने के क्रम में एक बच्चे की मौत हो गई। मृतक छात्र का नाम मनीष यादव कक्षा अच्छा पिता का नाम मनोज यादव हैं। मौके पर जीप अध्यक्ष शालिनी गुप्ता, डोमचांच थाना प्रभारी विनोद कुमार यादव, एसडीओ प्रभात कुमार बर्दिया, चिकित्सा प्रभारी नागेंद्र महतो, डॉ रंजीत कुमार कई प्रशासनिक विभाग घटना की जानकारी ली।

मृत राजन कुमार 9 पिता मोईलाल मेहता, निगम कुमार 10 पिता प्रकाश मेहता, शालू कुमारी 12 पिता प्रकाश मेहता, दिव्यांशु कुमार 11 पिता प्रकाश मेहता, वनदेवी कुमारी 6 वर्ष पिता मोतीलाल मेहता, मुश्कान कुमारी 8 मनोज मेहता, रानी कुमारी 9 पिता किशोर यादव, मुन्नी कुमारी 8 चंद्रकिशोर मेहता, प्रीति कुमारी 12 जगदीश मेहता सहित 186 से अधिक बीमार हैं।

आकाश कुमार 14 पिता पवन कुमार मेहता को सुबह ही विकास चंद्रा निजी क्लीनिक के पास भर्ती कराया गया है। सहदेव मोदी के दुकान से चना लाया गया था। भेलवाटांड से मंजू देवी बताती है कि रुक्मणि के जगह किरण खाना बनाती है तो उसे थोड़ा डाटा गया था। किरण कुमारी, नीलम देवी व मंजू देवी पारा शिक्षक अंजनी कुमार अम्बष्ठ प्रभारी प्रधानाध्यापक जिनके आदेश पर ही मंजू देवी खराब चना बना दी।

28 अगस्त को उत्क्रमित मध्य विद्यालय नवाडीह में मध्यान भोजन मेनू में छोला चावल चना और गुड़ था। उसी मेनू में विद्यालय में दुकानदार द्वारा चना पंहुचा दिया गया। जिस पर विद्यालय में खाना बनाने वाली रसोइया द्वारा विद्यालय के शिक्षक को यह बताया गया था कि चना खराब हैं।

food poising

janmanchnews.com

फिर भी विद्यालय शिक्षक ने उसी चना को बनाने के आदेश दिए। जिसके बाद विद्यालय बच्चो को चना और गुड़ नास्ते में दिया गया। जिसके कुछ देर बाद खाना में आलू चना का शब्जी और चावल खाने को दिया गया। कई बच्चों ने बताया कि चना खराब था हम खाना नही खाये पर जिन बच्चों ने खाना खाया उनको दस्त और उल्टी होने लगा सभी अपने अपने स्तर से इलाज करवा रहे थे।

इस बीच एक बच्चे मनीष कुमार 12 की मौत हो गई। जिसके बाद गांव वालों को पता चला कि विद्यालय में चना खाने से फूड पाइजनिंगहो गया है। जिसके बाद आनन फानन में जिला प्रशाशन द्वारा सभी बच्चों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहा 175 बच्चे इलाजरत थे। तो वही डोमचांच रेफरल में 11 बच्चे इलाजरत पाए गए।  शिक्षक के अनुसार विद्यालय में कुल 206 बच्चे नामांकित है।