BREAKING NEWS
Search
person get heart attack

स्टेशन पर युवक की हार्ट अटैक से हुई मौत, रेलवे चिकित्सक ने की पहुंचने में देरी

434
Share this news...
परविन्दर राजपूत की रिपोर्ट-
आगरा। कैंट स्टेशन के नजदीक रेलवे अस्पताल होने के बावजूद भी रेलवे के चिकित्सक ट्रेनों में अचानक तबीयत बिगड़ने वाली यात्रियों को समय से इलाज मुहैया नहीं करा पाते हैं। जबकि चलती ट्रेन के दौरान ही उन्हें हैं इसकी सूचना दे दी जाती हैं। इस कारण कई बार रेल यात्रियों की मृत्यु भी हो चुकी हैं।

ऐसा ही कुछ नजारा आगरा कैंट स्टेशन पर देखने को मिला। आगरा कैंट स्टेशन पर चिकित्सक के देरी से पहुंचने के कारण हार्ट अटैक के मरीज ने दम तोड़ दिया। मृतक की पत्नी ने पति की मौत के लिए रेलवे चिकित्सक को जिम्मेदार ठहराया।

मामला आगरा कैंट रेलवे स्टेशन प्लेटफार्म नंबर एक का हैं। हीराकुंड एक्सप्रेस में रायगढ़ निवासी सतीश सिंह उम्र 33 वर्ष सफर कर रहे थे। ट्रैन के आगरा कैंट स्टेशन के पास पहुंचने के दौरान बाथरूम जा रहे सतीश को हार्ट अटैक आया और वो नीचे गिर पड़े। टीटी ने तुरंत सतीश व उसके परिवार को ट्रेन से नीचे उतारा और तत्काल स्टेशन मास्टर को इसकी सूचना दी।

स्टेशन मास्टर ने तुरंत रेलवे अस्पताल को सूचित किया। लेकिन रेलवे डॉक्टर 100 कदम की दूरी पर स्थित स्टेशन पर भी 48 मिनट देरी से पहुंचे तब तक रेल यात्री सतीश की मृत्यु हो गयी। सतीश की पत्नी का आरोप था कि सूचना मिलने के बाद भी रेलवे चिकित्सक टाइम पर नहीं पहुंचे। जिसके कारण समय से प्राथमिक उपचार नही मिल सका और पति की मृत्यु हो गयी।

रेलवे चिकित्सक से देरी से पहुंचने का कारण पूछा तो चिकित्सक ने मृतक के परिवार और पत्रकारों से अभद्रता कर दी। रेलवे चिकित्सक रेलवे की नौकरी छोड़ने की बात कहने लगी। चिकित्सक का कहना था कि हार्ट अटैक से अक्सर मौत होती है डॉक्टर 5 और 10 मिनट में नहीं आ सकते।

मृतक की पत्नी और उसकी मासूम बच्ची अपने पिता की लाश के पास रोती रही। सोचने वाली बात है कि इस तरह की लापरवाही से आखिरकार कब तक रेलयात्री इलाज के अभाव में अपना दम तोड़ते रहेंगे।

Share this news...