BREAKING NEWS
Search
mafia tree cut deoria

बचाने वाले ही मिटा रहे है हरियाली, खाकी और खादी के सरपरस्ती में मालामाल हो रहे लकड़ी माफिया

784
Share this news...

– राप्ती नदी के केवटलिया बन्धे पर पेड़ों का अबैध कटान जारी, माफिया हुए सक्रिय…

– मुख्यमंत्री और न्यायालय से भी नहीं डरता वन दरोगा, पत्रकार को दी धमकी…

– मंत्री और ब्लॉक प्रमुख के दबाव में नही हुई लकड़ी माफियाओं पर कार्यवाही…

Priyesh Kumar "Prince"

प्रियेश कुमार “प्रिंस”

देवरिया। इस कोरोना महामारी में लॉक डाउन के चलते जहां जनपद की गलियां चौक चौबारे और गाँव-गाँव सन्नाटा पसरा हुआ है, पूरा प्रशासनिक अमला कोरोना योद्धा के रूप में जंग लड़ रहा है। ऐसे में रुद्रपुर क्षेत्र के राप्ती नदी के किनारे बने बंधे लकड़ी माफियाओं के लिए मुनाफ़े का बाज़ार बना हुआ है।

थाना मदनपुर क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले केवटलिया बन्धे पर लकड़ी माफियाओं की सक्रियता दिन दुगुनी बढ़ती ही जा रही है, बंधे पर लगे कीमती हरे पेड़ो को लकड़ी माफ़िया ख़ाकी और खादी की सरपरस्ती में अंधाधुंध काट रहे है। जिसके चलते राप्ती के किनारे बने बंधो से हरियाली गायब होती जा रही है। इसका ख़ामियाजा हर साल बाढ़ के रूप में भुगतना पड़ता है क्यो की हरे पेड़ो के कटने के चलते बंधे कमजोर हो गए है और जैसे ही पानी का दवाब दबाव बढ़ता है बंधे के टूटने का खतरा मँडराने लगता है। जबकि सरकार करोड़ो रूपये बंधे के संरक्षण के लिए बृक्षारोपण पर हर साल खर्च करती है।

बताते चले कि पांच दिन पूर्व केवटलिया निवासी चंद्रभान सिंह ने वन विभाग को यह सूचना दी गई थी कि राप्ती नदी के केवटलिया बंधे पर गाँव के ही लकड़ी माफ़िया छेदी सिंह द्वारा अपने लोगो द्वारा भारी मात्रा में अबैध रूप से चोरी छिपे कीमती हरे पेड़ो का कई दिनों से कटान किया जा रहा है। सूचना मिलने के बाद भी वन विभाग द्वारा स्वतः संज्ञान में कोई विभागीय कार्यवाही लकड़ी माफियाओं पर नही की गई।

जब शिकायतकर्ता द्वारा हरे पेड़ो के अबैध कटान की शिकायत जिलाधिकारी से की गई तो जिलाधिकारी के आदेश पर वन विभाग हरकत में आया और कार्यवाही के नाम पर लकड़ी माफियाओं के ऊपर खानापूर्ति करते हुए वन दरोग़ा ने प्रदेश सरकार के मंत्री और एक ब्लॉक प्रमुख के सिफारिशों का हवाला देते हुए लकड़ी माफ़िया के सम्मान को बचाते हुए मौके पर सिर्फ काटी गई लकड़ी की तीन बोटो की बरामदगी दिखाया गया। जबकि काटे गए हरे बबूल के पेड़ के तने की मोटाई 165 सेमी. मौके पर पहुँचे विभागीय अधिकारियों द्वारा नापी गई थी। बाकी लकड़ी का कीमती हिस्सा वन दरोगा ने लकड़ी माफ़िया को ही सुपुर्द कर दी गई। जबकि पूरी लकड़ी वन विभाग की संपत्ति थी जिसे वन दरोगा बरामद कर के पहुँचे थे। पूरी लकड़ी की बरामदगी न होने के चलते शिकायतकर्ता द्वारा जब वन दरोगा से कारण पूछा गया तो वन दरोगा शिकायतकर्ता को ही वर्दी की हेकड़ी दिखाते हुए फोन पर घुड़की देने लगा। और अपनी मनमर्जी का रुआब दिखाकर देख लेने की बात कह दी।

— अपने मुख्यमंत्री से भी नही डरता वन दरोगा…

अबैध पेड़ो के कटान और लकड़ी माफियाओं के ऊपर कार्यवाही को लेकर जब सवाल जबाब किया गया तो वन दरोगा भड़क उठा और फोन पर ही मुख्यमंत्री और न्यायालय को देख लेने की बात कहने लगा। जब कि कार्यवाही के संबंध में कोई स्पष्ट जानकारी नही दी गई।

— मंत्री और ब्लॉक प्रमुख की क्या है भूमिका…

राप्ती बंधे पर लकड़ी माफियाओं द्वारा अबैध रूप से हरे पेड़ो के हो रहे कटान के बावजूद शिकायतकर्ता ने जब कार्यवाही की बात पूछी तो वन दरोग़ा द्वरा यह साफ शब्दों में कहते हुए सुना जा सकता है कि पूरी लकड़ी इस लिए बरामद नही की गई कि मंत्री विधायक और ब्लॉक प्रमुख का फोन आया था हमारे पास, उनके दरवाजे का सम्मान देखते हुए इस तरह की कार्यवाही की गई है। वन दरोग़ा के इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि खाकी और खादी की सरपरस्ती में लकड़ी माफ़िया चांदी काट रहे है। और राप्ती बन्धे की हरियाली गायब होती जा रही है।

— जिम्मेदारों पर होगी कार्यवाही- डीएफओ…

अबैध कटान से संबंधित मामले में जब विभागीय जिम्मेदारों की संलिप्तता और हीलाहवाली को लेकर डीएफओ देवरिया से पूछा गया तो इनका कहना था कि अगर मौके से पूरी लकड़ी बरामद नही की गई है तो संलिप्त लोगो के ऊपर कठोर विभागीय कार्यवाही की जाएगी। जितनी भी लकड़ी काटी गई है उसके हिसाब से ही मुक़दमा कर जुर्माना वसूला किया जाएगा। अन्यथा अग्रिम कार्यवाही हेतु न्यायालय भेज दिया जाएगा। अभी पूरे मामले की जांच कर कार्यवाही की जाएगी।

— पूछ ताछ पर पत्रकार से उलझा वन दरोग़ा…

उक्त मामले में ख़बर से संबंधित सवाल पत्रकार द्वारा जब वन दरोगा से पूछा गया तो वन दरोग़ा उल्टे ही पत्रकार को रुआब दिखाते हुए धमकाया गया और यह कहा गया कि चाहे मुख्यमंत्री के पास जाओ या न्यायालय में हम सब देख लेंगे, हमने जो भी कार्यवाही की है वही सही है। अपनी ही बातों को मनवाने में वन दरोगा पत्रकार को हेकड़ी दिखाता रहा।

— हाथी के दांत जैसी है वन विभाग की कार्यवाही…

जिस तरह से राप्ती के बंधो पर लकड़ी माफियाओं का बोलबाला बढ़ गया है और हरे पेड़ दिनरात काटे जा रहे है उसके हिसाब से वन विभाग की कार्यवाही हाथी की दांत की तरह है जो सिर्फ जुर्माने का खेल खेला जा रहा है और माफियाओं को कीमती लकड़ी लुटाई जा रही है। वन विभाग द्वारा मिली सूचना के अनुसार लकड़ी माफ़िया छेदी सिंह पुत्र दुख्खी सिंह निवासी केवटलिया पर धारा – 33 , 77 व 26 के अंतर्गत कार्यवाही की गई है। जब कि मामले की जांच अभी की जा रही है।

Share this news...