BREAKING NEWS
Search
tribal society protest

अपनी मांगों को लेकर 7000 आदिवासी समाज ने सरकार के खिलाफ दिया धरना

470
Anil Upadhyay

अनिल उपाध्याय

देवास। जिले के आदिवासी बाहुल्य खातेगांव विधानसभा क्षेत्र में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने अपनी जमीन तलाशना शुरू कर दी है। हजारों की संख्या में आदिवासी समुदाय की महिला, पुरुष, बच्चे हाथों में तीर कमान और बड़े देव की ध्वजा लेकर एक तीर एक कमान आदिवासी एक समान का नारा लगाते हुए, स्थानीय दशहरा मैदान पहुंचे, आदिवासी समाज के इस दमखम को देख कर राजनीतिक हल्कों में चर्चा का बंजार गर्म हो गया है।

आदिवासी बाहुल्य इस विधानसभा क्षेत्र में आदिवासियों को राजनीति में अभी तक अपना प्रतिनिधित्व नहीं मिलना के कारण पहली बार आदिवासी समाज इतनी बड़ी संख्या में उपस्थित होकर गोंडवाना के पितृ पुरूष धीरज जी मरकाम के सपनों को साकार करने के लिए तेजी से आगे बढ़ रहे हैं।

आदिवासी बचाओ आंदोलन के तहत खातेगांव कन्नौद विधानसभा क्षेत्र से लगभग 7000 से अधिक सर्व व्यापी आदिवासी समाज के लोग एकत्रित हुए जो गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कुंवर बलवीर सिंह तोमर के नेतृत्व में दशहरा मैदान से एक रेली के रूप मे नगर के प्रमुख मार्गो से होते हुई उनकी मांगों को लेकर ज्ञापन देने एसडीएम कार्यालय पहुंचे।

श्री तोमर ने कहा की आदिवासी को शासन की योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। आपने कहा की अनुशासन, ऱाशन ओर शासन चाहिए। हम गौडवाना राज्य बनाकर रहेंगे। तोमर ने कहा की सजा-जन से कहा की भ्रष्टाचार चरम पर है। आदिवासियों की 21 सूत्री मांगों का मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन तहसीलदार को सौंपा।

पहली बार इतनी संख्या में लोग ज्ञापन देने पहुंचे कि तहसील कार्यालय परिसर ही छोटा पड़ गया। प्रशासन को इतनी भीड़ जुटने का अंदेशा पहले से ही था। इसलिए देवास जिले के पुलिस थानों के थाना प्रभारी सहित भारी संख्या में पुलिस फोर्स की तैनाती की गई थी। एसडीओपी शेरसिंह भूरिया पूरे समय कार्यक्रम के दौरान मौजूद रहे और व्यवस्थाएं बनाने के निर्देश देते रहे है।

तत्पश्चात पुण: रैली के रूप सजा जन दशहरा मैदान पहुंचे जहां समाज जनो ने बड़ादेव की आरती की, तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन हुआ जहां फूल है चंदन है रिश्तो का बंधन है, खातेगांव की भूमि में पधारे सभी सज्जनों का इस मंच से हार्दिक अभिनंदन है।

यह थे उपस्थित…

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के कार्यकर्ता सम्मेलन मे पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कुंवर बलवीर सिंह तोमर, सीमा सलराम, श्याम पतै, राकेश मालवीय, इसराइल खान, जिलाध्यक्ष महेंद्र पतै आदि लोग विशेष रुप से उपस्थित थे।

प्रशासन के समक्ष रखी प्रमुख मांगे…

आदिवासी बाहुल्य होने का कारण खातेगांव तहसील को आदिवासी बहुल जिला घोषित किया जाए।

खातेगांव कन्नौद क्षेत्र के छोटे-छोटे गांव में अवैध शराब का कारोबार चरम सीमा पर है।

इससे अपराधिक गतिविधियों बड रही है। 3 दिन के अंदर इन सभी दुकानों को बंद किया जाए।

नर्मदा पाइप लाइन एवं नल जल योजना से आदिवासी क्षेत्र में पीने योग्य पानी उपलब्ध कराया जाए।

वन भूमि पर 2005 से काबिज आदिवासी परिवारों का सर्वे कर पट्टे प्रदान किये जाए।

आदिवासी और दलित भूमिहीन परिवारों को ३-३ एकड के पट्टे प्रदान किया जाए।

खातेगांव में केंद्रीय विद्यालय की स्थापना की जाए।

९अगस्त आदिवासी दिवस पर संपूर्ण जिले में अवकाश घोषित किया।

खातेगांव में एक आदिवासी सामुदायिक भवन का निर्माण किया गया।

खातेगांव कन्नौद सतवास में 50-50 सीट के आदिवासी पोस्ट मैट्रिक कन्या बालक बालिका छात्रावास खोले जाएं।