arrested

दो माह पूर्व शराब जप्ती मामले में, निर्दलीय पार्षद पप्पू की हुई गिरफ्तारी

309
Anil Upadhyay

अनिल उपाध्याय

देवास। देवास जिले की नेमावर पुलिस ने 26 नवंबर 2017 को स्कोर्पियो गाड़ी क्रमांक एम पी 41एमक्यू 0007  जप्त कर उसने रखी 8 पेटी अवैध शराब जप्त की थी। यह गाड़ी नेमावर नगर केवार्ड क्रमांक 4 के निर्दलीय पार्षद अखिलेश उर्फ पप्पू पिता कैलाश पुरी के घर के सामने से जप्त की गई थी।

स्कोर्पियो गाड़ी पर लगी नंबर प्लेट के आगे बड़े बड़े अक्षरों में पार्षद पीछे भाजपा का चुनाव चिन्ह कमल का फूल और ऊपर लिखा बाबा और वाहन के अंदर भरी थी अबैध शराब की खेप इस खेल को पुलिस ने पकड़ लिया था।

इससे यह स्पष्ट हो गया था कि अवैध शराब का सौदागर कोई और नहीं बल्कि पार्षद पप्पू ही है। किंतु पुलिस ने पार्षद को आरोपी बनाने की वजह अभिषेक नहार निवासी चापड़ा को आरोपी बना दिया, जिसके नाम पर उक्त वाहन रजिस्टर्ड था, जबकि घटना से 1 माह पूर्व उक्त ने  पार्षद अखिलेश ने ₹5 लॉख रूपए में स्कोर्पियो कार खरीद ली थी।

आरोपी बनाए जाने के बाद तत्कालीन टीआई सुजीत तिवारी को नहार ने दस्तावेज दिखाएं जिसमें गाड़ी बेचने का जिक्र था। किंतु किसी ने उसकी एक नहीं सुनी और उसे सीधे जेल भिजवा दिया, इसके बाद नेमावर टी, आई, तिवारी का तबादला इंदौर हो गया, उनके स्थान पर कैसी चौहान पदस्थ हो गए। उन्होंने भी अभिषेक नहार को ही आरोपी माना पार्षद शराब कांड का मुख्य अखिलेश और पप्पू तभी से खुलेआम घूमता रहा।

इस दौरान नहार के परिजनों ने टी आई के समक्ष आकर अभिषेक को निर्दोष साबित करने के लिए कई तथ्य बी पेश किए किंतु, पुलिस ने उनकी एक नहीं सुनी अभिषेक के पिता कनक कमल नहार के परिजनों नेमावर पुलिस पर षड्यंत्र पूर्वक उनके पुत्र अभिषेक को झूठे केस में फंसा कर जेल भेजने का आरोप लगाते हुए इस मामले को लेकर अभिषेक की पत्नी व माता पिता के साथ ही जैन समाज की ओर से मंगलवार के दिन विधायक चंपालाल देवड़ा को एक आवेदन देकर मांग की इस मामले की निष्पक्ष जांच हो और दोषी पर कार्रवाई की जाए।

परिजन इसके बाद मंगलवार को जिला मुख्यालय देवास में होने वाली जनसुनवाई में भी पहुंचे SP अंशुमान सिंह से निष्पक्ष जांच की मांग की एस पी सिंह ने परिजनों को पूरी बातें ध्यान से सुनी वह आवेदन लेकर पूरे मामले की अलग से जांच कराने का आश्वासन दिया।

विधायक देवड़ा एसपी सिंह को दिए गए आवेदन में बताया गया है कि थाना प्रभारी चौहान द्वारा विगत दिनों अभिषेक पर निर्माण थाने पर आने का दबाव बनाया जा रहा था दवाव के चलते 22 जनवरी को नेमावर थाने पहुंचा था, धारा 164 के तहत बयान करने का बोला गया लेकिन चौहान द्वारा शराब के झूठे केस में धारा लगा कर जेल भेज दिया गया अभिषेक के पिता ने बताया कि मेरे बेटे को फंसाया है।

यह है मामला…

26 नवंबर 2017 को नेमावर में एक काले कलर की Scorpio में अवैध रूप से 8 पेटी शराब पकड़ाई थी, जिस पर पार्षद लिखा हुआ था मैं पिछले कांच पर कमल का फूल भी बना हुआ था। उक्त गाड़ी अभिषेक नहार चापड़ा द्वारा 26 अक्टूबर 2017 को अखिलेश और पप्पू निवासी नेमावर को बेची गई थी और एक माह बाद भी गाड़ी में शराब पकड़ी थी।

आरोप झूठे वह बेबुनियाद है…

जिस समय गाड़ी से शराब जप्त की गई थी उस समय गाड़ी अभिषेक के नाम से ही थी। उसी आधार पर कार्रवाई की गई है और मेरे द्वारा अभिषेक पर किसी भी प्रकार का दबाव नहीं डाला गया है, ना ही रुपए की मांग की गई है, यह आरोप झूठे और बेबुनियाद है- “कैलाश चौहान थाना प्रभारी नेमावर”