BREAKING NEWS
Search
gopal goyal

विश्व स्तनपान सप्ताह समापन के अवसर नई डॉक्यूमेंट्री फिल्म का हुआ विमोचन

542
Omprakash Varma

ओमप्रकाश वर्मा

धौलपुर। विश्व स्तनपान सप्ताह के समापन के अवसर पर अर्थ एक प्रयास समिति द्वारा ब्रेस्टफीडिंग ए डिफीकल्टी डॉक्यूमेंट्री फिल्म का विमोचन किया गया। अर्थ एक प्रयास समिति के सचिव स्मिथ अग्रवाल द्वारा बताया गया कि संस्था धौलपुर के कई गावों में स्तनपान से जुड़ी हुई समस्यायों के निष्तारण के लिए काम कर रही है। 

इसी क्रम में संस्था द्वारा प्रति वर्ष डॉक्यूमेंट्री के माध्यम से लोगों में जनचेतना लाने हेतु प्रयास भी किया जा रहा है। संस्था के अध्यक्ष इमरान अली जाफरी ने बताया डॉक्यूमेंट्री एक सरल और आसानी से समझ आने वाला माध्यम है। इस बार डॉक्यूमेंट्री में स्तनपान से जुड़ी हुई समस्याओं को आधार बनाया गया है। डॉक्यूमेंट्री धौलपुर शहर में ही शूट हुई है। डॉक्यूमेंट्री में गड़िया लुहारों को प्रमुखता से दिखाया गया है। गड़िया लुहार बच्चों को स्तनपान कराने में सबसे आगे है।

कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए

janmanchnews.com

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉक्टर श्री गोपाल गोयल CMHO धौलपुर द्वारा दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। श्री गोयल जी ने बताया संस्था द्वारा सराहनीय कार्य करने के लिए उनका आभार व्यक्त किया तथा गड़िया लुहारों के बारे में बताया कि गड़िया लुहार महिलाएं बच्चो को कभी भी बोतल से दूध नहीं पिलाती है। जबकि वो प्रसव के कुछ दिन बाद ही अपना दिन प्रतिदिन का कार्य करने लग जाती है।

कार्येक्रम के दौरान

janmanchnews.com

कार्यक्रम कि अध्यक्षता श्रीमती रेनू भार्गव जी ने की। श्रीमती भार्गव जी ने संस्था के प्रयासों की सराहना की और भविष्य के लिए शुभकामनायें दी। डॉक्यूमेंट्री में सिनेमाटोग्राफर ग्वालियर के हृदय खत्री है। डॉक्यूमेंट्री में शहर की एइन सारिका मित्तल, विनीता राजोरिया, डॉक्टर रेनू अग्रवाल, डॉक्टर धरम मीणावत द्वारा अपने विचार और अनुभव शेयर किये गए है।

साथ ही कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि डॉक्टर श्री जनार्दन सिंह पीएमओ धौलपुर ने महिला बैंक द्वारा स्तनपान से जुडी समस्यायों को कैसे दूर किया जा रहा है, के बारे में बताया। कार्यक्रम में अधिवक्ता श्री हरवीर सिंह सिकरवार, मलखान सिंह त्यागी, गौरव शर्मा, इमरान अली जाफरी, गोविन्द मित्तल, रमा अग्रवाल, राधा मित्तल सहित कई अन्य हस्तिया मौजूद थी।