BREAKING NEWS
Search
Wearing heels

कहीं आप भी तो नहीं पहनतीं हाई हील्स? स्वास्थ्य पर ऐसे करती हैं असर

296

New Delhi: ये बात किसी से छिपी नहीं है कि ज़्यादातर महिलाएं फैशन की दीवानी होती हैं। नए से नया फैशन ट्रेंड उनकी शॉपिंग लिस्ट में होता है। इनकी लंबी-चौड़ी लिस्ट में कपड़ों, मेकअप और ऐक्सेसरी के अलावा फुटवियर्स की भी अच्छी खासी जगह होती है। खासकर, हाई हील्स की।

हाई हील्स को पहनना चाहे कितना भी तकलीफ़देह क्यों न हो, लेकिन फिर भी ये सभी महिलाओं की पसंदीदा होती हैं। दरअसल, हील्स सभी तरह के आउटफिट्स से मैच करती हैं। हालांकि, हाई हील्स को लंबे समय तक पहनने से महिलाओं की हड्ड़ियों पर काफी बुरा असर पड़ता है। एक नई रिसर्च में पाया गया कि हील्स को रोज़ाना पहनने से ऑस्टियोपोरोसिस और ज़िंदगी भर के लिए पीठ दर्द रहने का ख़तरा बढ़ जाता है।

हाल ही में मैक्स हेल्थकेयर (MHC) ने एक रिसर्च किया है, जिसमें दिल्ली एनसीआर और गुरुग्राम के 500 से अधिक महिलाओं को शामिल किया था, जिनकी उम्र 20 से 45 वर्ष या उससे अधिक थी।

रिसर्च में पाया गया…

इस रिसर्च में खुलासा हुआ है कि तकरीबन 48.5 प्रतिशत महिलाएं नियमित रूप से या किसी विशेष समारोह में शामिल होने के लिए हाई हील सैंडल पहनती हैं। अगर वह लगातार हाई हील पहन लेती हैं तो उनके टखने और घुटने में दर्द की शिकायत होती है। इस बारे में शोधकर्ता विशेषज्ञ का कहना है कि हाई हील्स को अधिक समय तक पहनने से रीढ़ पर अत्यधिक दबाव पड़ता है, जिससे महिलाओं की बोन्स डेवलपमेंट में भी काफी दिक्कत आती है। इसे पहनने से एड़ी, रीढ़ और टखने पर भी दबाब पड़ता है।

इसके साथ ही रिसर्च में यह भी पता चला है कि 20-30 वर्ष की 37.5 प्रतिशत महिलाएं रोज़ाना हाई हील पहनती हैं। वहीं, 43.7 फीसदी कामकाजी महिलाएं रोज़ाना हाई हील्स पहनती हैं। जबकि, केवल 14.6 प्रतिशत 20-30 वर्ष की महिलाएं ऊंची हाई हील्स पहनना पसंद नहीं करती या कभी-कभी पहनती हैं।

इस बारे में विशेषज्ञ का कहना है कि कई मामलों में ऐसा देखा जाता है कि पैर मुड़ जाता है, जिससे पैरों में बहुत दर्द होने लगता है। इस दर्द को ‘Hallux Valgus’ कहा जाता है, जिसे सर्जरी के जरिए ही सही किया जाता है। ऐसे में महिलाओं को हाई हील्स कभी-कभी पहनना चाहिए। वहीं, रोज़ाना इस्तेमाल के लिए आप फ्लैट, बल्लेरीना, लोफर्स, स्लिप ऑन, ऑक्सफ़ोर्ड ट्राई कर सकती हैं।