प्रतापगढ़

लोकसभा द्वारा NMC बिल पास किये जाने पर फूटा डॉक्टरों का गुस्सा किया 24 घंटे गैर ज़रूरी सेवाएँ बंद करने का ऐलान

87

तौज़ीहा यस्मिन कि रिपोर्ट

नई दिल्‍ली, एएनआइ। राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग यानी नेशनल मेडिकल कमीशन विधेयक 2019 (National Medical Commission Bill, एनएमसी बिल) लोकसभा से पास होने के बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (Indian Medical Association, IMA) ने इसका विरोध किया है।जिसके बाद कल  यानी बुधवार को सुबह 6.00 बजे से 24 घंटे तक पूरे देश में गैर-जरूरी सेवाओं को बाधित रखने का आह्वान किया है।

सूत्रों के अनुसार  इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने डॉक्‍टरों से कहा है कि वे बुधवार सुबह छह बजे से अगले दिन एक अगस्‍त की सुबह छह बजे तक गैर-जरूरी सेवाओं को जारी नहीं रखें। हालांकि, आपातकालीन, कैजुअल्टी, आईसीयू और संबंधित सेवाएं सामान्य रूप से काम करती रहेंगी।

आई एम् ए का कहना है कि  उनकी लड़ाई एन एम् सी बिल 2019 के खिलाफ जरी रहेगी जब तक इस बिल को ख़ारिज नहीं किया जाता |

आपको बताते चलें कि इस बिल के अनुसार ऐसे व्यक्ति को सीमित लाइसेंस जारी कर सकता है जो आधुनिक वैज्ञानिक मेडिकल पेशे से जुड़ा है और जो नियमन के तहत मुहैया कराए गए मापदंड को पूरा करता है|

आईएमए जालंधर के प्रधान डॉ. हरीश भारद्वाज के मुताबिक, एनएमसी बिल लागू होने से मेडिकल कॉलेजों में चिकित्सा शिक्षा मंहगी हो जाएगी। इस बिल के तहत मैनेजमेंट 50 फीसद सीटों को उच्चतम दरों पर बेचने की अनुमति देगा। आईएमए के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. सांतनु सेन ने कहा कि यदि नीम हकीमी को वैध करने वाली धारा-32 को जोड़ने से लोगों की जान खतरे में पड़ेगी।