BREAKING NEWS
Search
विक्रेता

बनारस में अपराध का पारा पहुँचा आसमान पर, गुरुवार रात सारनाथ में मामा-भांजे की गोली मारकर हत्या

657

मामा बसंता की हत्या की जानकारी रात में ही हो गई थी जबकि भांजे राजेश यादव की लाश आज सुबह आम के बाग़ में मिली। हफ्तेभर में शहर में गिर चुकी हैं तीन लाशें, पुलिस शुक्रवार को हर चौराहे पर संदिग्धों की चेकिंग में मशग़ूल दिखी…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: शहर के अमन में फिर से खलल पड़ा है, लंबे अरसे से शांत अपराधियों की गन फिर से आग उगलने लगी है, हालात यहाँ तक पहुँच गये कि हफ्ते भर में ही बनारस नें तीन लोगो को गोली मारकर मौत की नींद सुला दिया गया। इससे पहले 8 लाख की लूट भी हुई थी जिसके खुलासे से पुलिस फिलहाल दूर नजर आ रही है।बीती रात सारनाथ थाना अंतर्गत रजनहिया स्थित देशी-अंग्रेजी शराब और बीयर ठेके के बाहर अंडा विक्रेता बसंता यादव (58) और उसके भांजे राजेश यादव(30) की गोली मार कर हत्या कर दी गई।

विक्रेता की हत्या की खबर तो देर रात ही लग गई थी लेकिन उसके भांजे की हत्या की खबर शुक्रवार सुबह हुई। बीती रात बीयर ठेके के बाहर बदमाशों और अंडा विक्रेता के बीच मारपीट हुई थी। बाद में बदमाशों ने अपने साथियों को बुलाकर विक्रेता को गोली मार दी।

सूत्रानुसार, बंसता को गोली मारकर भाग रहे बदमाशों का उसके भांजे ने दौड़ कर पीछा किया तो उसे भी गोली मार दी। वह गोली लगने बाद बीयर ठेके से करीब 200 गज दूर आम के बगीचे में गिर पड़ा और बेसुध हो गया। रात में किसी समय उसकी मौत हो गई उसका किसी को पता नही चला। इधर, गोली लगने से विक्रेता की मौत मौके पर ही हो गई।

सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस और लोगों को इस अफरा तफरी में दूसरी हत्या की भनक तक नहीं लगी। भांजे का शव सोमवार सुबह आम के बगीचे में मिला। सूचना पर सिटी एसपी, आईजी रेंज पहुंचे और जानकारी जुटाई।

इधर देर रात हुए इस हत्याकांड से क्षेत्र में सनसनी मच गई। गुरुवार की रात बाइक सवार बदमाशों ने इस दोहरे हत्याकांड को अंजाम दिया। बताया जाता है कि बसंता के तख्त पर बैठने से मना करने पर और खाने-पीने के सामान के लेनदेन के विवाद में नशे में धुत तीन बाइक पर सवार नौ बदमाशों ने वारदात को अंजाम दिया है।

चोलापुर थाना अंतर्गत बनियापुर निवासी बसंता यादव रजनहिया स्थित देशी-अंग्रेजी शराब और बीयर ठेका के पास खाने-पीने का सामान और अंडा बेचता था। बताया जाता है गुरुवार की रात 10:30 बजे के लगभग बसंता के तख्त पर बैठ कर कुछ लोग शराब पी रहे थे। बसंता ने शराब पीने से मना किया तो कहासुनी हुई। इसके पहले भी सभी ने अंडा खरीदने के दौरान भुगतान को लेकर बसंता से कहासुनी की थी।

बात बढ़ने लगी तो सभी तख्त से उठ कर चले गए। इसके थोड़ी ही देर बाद तीन बाइक पर सवार होकर नौ लोग आए और दुकान बंद कर बर्तन धो रहे बसंता को लक्ष्य कर दो राउंड फायरिंग किए। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश असलहा लहराते हुए भाग निकले। आशंका है कि मामा को गोली मारकर भाग रहे बदमाशों को राजेश यादव ने दौड़ाया होगा जिस पर बदमाशों नें उसे भी गोली मार दी होगी।

गोली चलने की आवाज सुन कर ग्रामीण मौके पर भाग कर आए और बसंता को मंडलीय अस्पताल ले जाया गया जहां उसे डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। इस संबंध में एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए क्राइम ब्रांच सहित तीन टीमें लगाई गई हैं।

क्षेत्र के पांच संदिग्धों से पूछताछ की जा रही है। 30 अप्रैल को जैतपुरा थाना के दारानगर में सोनू यादव नाम के सट्टेबाज की गोली मार कर की गई हत्या के तीन नामजद आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

तब तक गुरुवार की रात बसंता और उसके भांजे की हत्या हो गई। इससे पहले बीते सप्ताह कैंटोनमेंट क्षेत्र में दिनदहाड़े हुई आठ लाख की लूट का खुलासा भी अभी पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ है।

बता दें कि हाल ही उत्तरप्रदेश पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह नें दो दिवसीय वाराणसी दौरा किया था और वाराणसी पुलिस की जमकर तारीफ की थी, इस तारीफ के दूसरे ही दिन दारानगर में गोली चल गई और सोनू यादव (32) की मौत हो गई। शबाब ख़ान की जाँच-पड़ताल में पता चला कि सोनू यादव रेल मालगोदाम क्षेत्र में जुए और IPL सट्टेबाजी का काला कारोबार फैलाये था हालांकि दिखावे के लिए वो कई बैट्री रिक्शों को किराये पर चलवाता था। आशंका जताई जा रही है कि इसी सट्टेबाजी के पैसो के लेनदेन को लेकर हुये विवाद में उसकी जान गयी।

पुलिस के अनुसार इस मामले में श्रेयस पांडे सहित तीन युवकों की तलाश है, जबकि कुछ सूत्र बताते हैं कि श्रेयस नें गुरुवार दोपहर में कोर्ट में सरेण्डर कर दिया है, हालांकि पुलिस नें अब तक इस बात की पुष्टि नही की है।

[email protected]