AADHAR

पोस्ट ऑफिस की लापरवाही के चलते कई लोगों के आधार कार्ड और जरूरी कागज मिले गड्डे में, कार्यवाही नदारद

159
Anil Upadhyay

अनिल उपाध्याय

देवास। जिले के औद्योगिक थाना अंतर्गत औद्योगिक क्षेत्र क्रमांक 2 के समीप स्थित एक खेत पर गड्डे में से शुक्रवार को बड़ी संख्या में आधार ATM कार्ड पासबुक सहित एक वकील की सनद बरामद हुई है यह दस्तावेज डाग विभाग के हैं जो स्पीड पोस्ट से भेजे गए थे। बड़ी संख्या मे दस्तावेज मिलने की सूचना पर औघोगिक थाना पुलिस मौके पर पहुंची और दस्तावेज जप्त किए प्रथम दृष्टया डाक विभाग की लापरवाही सामने आई है।

पुलिस पोस्ट ऑफिस से मामले में जानकारी लेगी, जानकारी के के अनुसार औद्योगिक क्षेत्र क्रमांक 2 के एक खेत स्थित गड्डे में कोई दस्तावेज से भरा बोरा भेक गया था इसे आसपास के बच्चों ने फाड दिया था।

खेत के मालिक जितेन्द मोदी ने जब बारीकी से  बोरे रखे दस्तावेज देखे तो उसमें उनके वकील दोस्त केदार पटेल की सनद पड़ी मिली इसके अलावा कई सारे एटीएम आधार कार्ड के अलावा अन्य दस्तावेज भी मिले तो डाक विभाग की स्पीड पोस्ट सेवा से भेजे गए थे, इस पर मोदी ने उनके मित्र पटेल को सूचना देने के साथ ही ओघोगिक थाना पुलिस को सूचना दी सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और जांच की प्रथम दृष्टया मामले में डाक विभाग की लापरवाही सामने आई इसके बाद पुलिस ने जप्त कर थाने ले गई भविष्य निधि बीमा पालिसी ATM कार्ड चेक आधार कार्ड डाक से भेजे गए थे।

डाक विभाग की विश्वसनीयता पर बड़ा प्रश्नचिन्ह खड़ा हो गया। यह इस कारण खड़ा हुआ है जिस विभाग के पास लोगों के चेक बुक, एटीएम कार्ड सहित अन्य प्रमुख दस्तावेजों को जनता तक पहुंचाने की जिम्मेदारी है। उस विभाग के नुमाईंदों की बड़ी लापरवाही सामने आई। जनता के जरूरी दस्तावेज को कचरा समझकर खेत पर फैंक दिया। अब इस विभाग पर जनता कैसे विश्वास करें। जब लोगों के लिए जरूरी दस्तावेज विभाग के जिम्मेदारों ने कूडे के ढेर में फैंक दे। अब देखने यह है कि इन लापरवाह जिम्मेदारों पर प्रशासन कोई कार्यवाही करेंगा।

कूड़े के ढ़ेर में मिले जनता के गोपनिय दस्तावेजऔद्योगिक थानातंर्गत बायपास से कुछ दूरी पर आयसर कंपनी के पास जितेन्द्र मोदी निवासी नागदा का खेत है। गुरूवार को जितेन्द्र मोदी ने कूडे के ढेर पर बहुत सारे कागज पड़े दिखे। जब मोदी ने गौर से देखा तो उसमें उनके मित्र केदार पटेल की वकालत के सनद भी पड़ी है। इस बात की सूचना उन्होनें केदार पटेल को दी। जब केदार ने आकर देखा तो वो उनकी मूल सनद थी। इस सनद के लिए वकील केदार पटेल दो वर्ष से परेशान हो रहे थे। केदार की यह सनद के लिए दो साल से इंतजार कर रहे थे। इसको लेकर कई बार जबलपुर भी फोन लगाए।

इधर सूचना मिलने पर औद्योगिक थाना पुलिस मौके पर पहुंची।

पुलिस ने मौके पर पहुंचकर सभी कागजात को जब्त कर लिया है। कूडे के ढेर जो जरूरी दस्तावेज मिले है उसमें भविष्य निधि, बीमा पालिसी, एटीएम कार्ड, चेक बुक, शादी के कार्ड और आधार कार्ड सहित कई महत्वपूर्ण कागजात थे। अब इस तरह कूडे के ढेर में जरूरी दस्तावेज मिलने के बाद जनता कैसे डाक विभाग पर विश्वास करे। इसको लेकर जिम्मेदार डाक विभाग पर प्रशासन को ठोस कार्रवाई करना चाहिए। जिससे भविष्य में लोगों के महत्वपूर्ण दस्तावेजों से डाक विभाग के नुमाईंदे इस तरह कूड़े के ढेर पर फेंककर खिलवाड़ नहीं करें।