strike k

लोकसभा चुनाव का बहिष्कार, शिक्षा का मंदिर बना चुनावी मुद्दा

217
ईशू केशरवानी

ईशू केशरवानी

रीवा- चुनाव आते ही नेताओं और कर्मचारियों की पोल खुलने लगती हैं. इस बात को खबर पढ़ने के बाद नकारा नहीं जा सकता है. अकसर चुनाव के समय जनता भी अपनी समस्याओं को लेकर मजबूरन कदम उठाना पड़ जाता है.

ऐसे ही एक मामला प्रकाश में आया है, जहां ग्राम वासियों द्वारा उच्च शिक्षा कि व्यवस्था ना होने पर मतदाताओं द्वारा लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने की चेतावनी देते हुए त्योंथर SDM कार्यालय में जाकर ज्ञापन सौंपा गया हैं.

दरअसल, हम बात कर रहे हैं त्योंथर तहसील के ग्राम पंचायत बीरपुर जवा की जहां शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय को हाईस्कूल की मांग  लम्बे समय से करीं जा रही हैं. लेकिन, कोई असर नहीं पड़ने से मजबूरन ग्राम वासियो ने लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला लिया है.

जबकि, उच्च शिक्षा के व्यवस्था के लिए बीरपुर सरपंच उर्मिला देवी एवं उपसंरपंच राजधर यादव के द्वारा इस विषय में शासन-प्रशासन और विधायक और सांसद महोदय को भी अवगत कराया जाता रहा. लेकिन, उनकी बातों को हमेशा नजर अंदाज किया गया है.

जिसको मुद्दा बनाकर बीरपुर उपसंरपंच के अगुवाई में लगभग दो सौ ग्राम वासियों ने अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए रीवा कलेक्टर जिला निर्वाचन अधिकारी के नाम का ज्ञापन त्योथर SDM कार्यलय में जाकर दिया है और जल्द से जल्द शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय बीरपुर को हाईस्कूल का दर्जा देने की मांग की गई है.