BREAKING NEWS
Search
mamta banerjee

ममता बनर्जी को गलत बयानबाजी के आरोप में चुनाव आयोग ने दूसरी बार भेजा नोटिस, जानिये क्या है पूरा मामला

155
Share this news...

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को चुनाव आयोग ने फिर से नोटिस भेजा है। ममता पर केंद्रीय सुरक्षा बलों पर गलत बयानबाजी के आरोप में चुनाव आयोग ने दूसरी बार नोटिस भेजा है। चुनाव आयोग ने कहा कि बीएसएफ पर टीएमसी की ओर से आरोप लगाना दुर्भाग्यपूर्ण है। चुनाव आयोग ने कहा कि बीएसएफ देश की बेहतरीन फोर्स में से एक है इसपर टीएमसी की ओर से आरोप लगाना दुर्भाग्यपूर्ण है।

जानकारी हो कि ममता बनर्जी  चुनाव आयोग और केंद्रीय सुरक्षा बलों पर आरोप लगाती रही हैं। चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी को दूसरी बार नोटिस भेजा है। मालूम हो कि इससे पहले चुनाव आयोग ममता बनर्जी को सभी मुसलमान एकजुट होने वाले बयान पर भी नोटिस जारी किया था। ममता ने मुस्लिम मतदाताओं से टीएमसी के पक्ष में मतदान करने की अपील की थी, जिसके बाद चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी को आचार संहिता के उल्लंघन के लिए नोटिस भेजा था।

केंद्रीय सुरक्षा बलों पर भाजपा की मदद करने और बंगाल के मतदाताओं को मतदान करने से रोकने का आरोप लगाती रही हैं। बता दें  कि चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी को जो नोटिस जारी किया है उसमें ममता के उन बयानों का भी जिक्र है, जिसमें तृणमूल का एक प्रतिनिधिमंडल ने बांग्लादेश बॉर्डर की सुरक्षा में तैनात बीएसएफ पर एक पार्टी के पक्ष में ग्रामीणों को धमकाने का आरोप लगाया था।

वही, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दोमजुर में चुनाव प्रचार के दौरान पूछा कि जब भाजपा के स्टार प्रचारक तथा प्रधानमंत्री मोदी अपने भाषणों में हिंदू और मुस्लिम वोटबैंक का जिक्र करते हैं तो उनके खिलाफ कोई शिकायत क्यों दर्ज नहीं की जाती, ममता ने कहा कि चुनाव आयोग चाहें तो मुझे दस कारण बताओ नोटिस भेज सकते हैं, लेकिन मेरा जवाब एक ही होगा। मैं हमेशा हिंदू, मुस्लिम वोटों के विभाजन के खिलाफ बोलती रहूंगी। मैं धार्मिक आधार पर मतदाताओं को बांटने के खिलाफ खड़ी रहूंगी।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नोटिस जारी करने को लेकर तृणमूल कांग्रेस ने चुनाव आयोग की आलोचना करते हुए सवाल किया कि भाजपा के खिलाफ दर्ज शिकायतों पर अब तक क्या कदम उठाए गए हैं? तृणमूल की प्रवक्ता महुआ मोइत्रा ने कहा कि चुनाव आयोग भेदभाव करना बंद करे। मोइत्रा ने ट्वीट किया-‘भाजपा की शिकायत पर चुनाव आयोग ने ममता दीदी को नोटिस जारी किया। तृणमूल की शिकायतों पर क्या हुआ? भाजपा उम्मीदवार द्वारा नकदी बांटने के वीडियो सबूत भी हैं। भाजपा की बैठकों में हिस्सा लेने के लिए कैश कूपन भी बांटे गए। गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने हुगली में प्रचार के दौरान सांप्रदायिक आधार पर मतदाताओं से कथित तौर पर अपील करने को लेकर ममता को नोटिस जारी किया है।

बता दें कि ममता बनर्जी ने मतदाताओं को चौकन्ना रहने की सलाह देते हुए कहा था कि केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों के जवान गांवों में लोगों को डराने-धमकाने पहुंच सकते हैं। हुगली जिले के बालागढ़ में जनसभा को संबोधित करते हुए बनर्जी ने आरोप लगाया कि केंद्रीय बल अमित शाह द्वारा संचालित केंद्रीय गृह मंत्रालय के निर्देशों पर काम कर रहे हैं। बनर्जी ने कहा कि राज्य पुलिस बल को चौकन्ना रहना चाहिए और दिल्ली के सामने झुकना नहीं चाहिए।

मालूम हो कि टीएमसी प्रमुख बनर्जी ने कहा कि वह सांप्रदायिक आधार पर मतदाताओं को बांटने के किसी भी प्रयास के खिलाफ आवाज उठाती रहेंगी और चुनाव आयोग चाहे तो उन्हें दस कारण बताओ नोटिस भेज दे, लेकिन इनसे वह नहीं बदलेंगी।

Share this news...