Janmanch

अव्यवस्था: शहर से गांव तक लटक रहे मौत के तार

157

बिजली के झूलते, टूटे तारों को दुरुस्त करने के बजट को इंजिनियर्स नें कागजों पर किया खर्च, नतीजतन कही खेत जल रहे हैं तो कही करंट से जान जा रही है…

Yuvraj SIngh

युवराज सिंह

 

 

 

 

 

 

प्रतापगढ़: बिजली विभाग की लापरवाही के चलते शहर से गांव तक मौत के तार लटक रहे हैं। झूलते तारों को दुरुस्त करने और अनुरक्षण कार्य के लिए आए लाखों के बजट को कागजों पर ही खपा दिया गया। कहीं भी तारों को दुरुस्त नहीं किया गया। नतीजा यह कि बिजली की शार्ट सर्किट और चिंगारी निकलने से हर दिन आग लगने की घटनाएं हो रही हैं। शहर मेें शार्ट सर्किट से लगी आग से दुकानों एवं कार्यालयों को भारी नुकसान हुआ है। गांवों में दो सौ से अधिक किसानों की फसलें जल चुकी हैं।

जिले में चार विद्युत पारेषण खंड हैं। जिनसे जिलेभर में विद्युत आपूर्ति की जाती है। बिजली व्यवस्था की बदहाली के चलते उपभोक्ताओं को रोस्टर के मुताबिक बिजली नसीब नहीं हो पा रही है। कहीं जर्जर तार से आपूर्ति हो रही है तो कहीं तार पोल से झूलकर जमीन तक आ चुके हैं। गर्मी में बिजली विभाग की यह लापरवाही लोगों को भारी पड़ रही है।

शार्ट सर्किट से अगलगी की घटनाएं खूब हो रही हैं। रानीगंज, पट्टी, शिवगढ़, बीरापुर, सदर, कुंडा, लालगंज सभी क्षेत्रों में तार लटक रहे हैं। विभागीय सूत्रों की मानें तो इन अव्यवस्थाओं को दूर करने के लिए अनुरक्षण बजट आता है। चारों पारेषण खंड मिलाकर कर बात करें तो इस बार भी गर्मी में हादसोें को रोकने के लिए अनुरक्षण कार्य के लिए करीब चार लाख से अधिक का बजट आया था। मगर विद्युत तारों को बदलने व झूलते तारों को कसने आदि के कार्यों के नाम पर महज कोरम पूरा किया गया।

जिससे व्यवस्था में तनिक भी सुधार नहीं हुआ। पिछले साल की तरह इस वर्ष भी बिजली के तारों के चलते अगलगी की घटनाएं खूब हो रही हैं। अभी भी अगलगी की घटनाओं पर विराम नहीं लग सका है। एक्सईएन तृतीय लालगंज अमित सेठ ने बताया अनुरक्षण कार्य के लिए वैसे तो हर माह बजट आना चाहिए, मगर ऐसा होता नहीं है। पांच महीने में एक बार इसके लिए बजट आता है। जितना बजट आता है, उसके अनुरूप कार्य कराया जाता है।

टूटे तार की चपेट मेें आकर दर्जनभर लोग गंवा चुके हैं जान

टूटकर गिरे जर्जर तारों की चपेट में आकर करीब दर्जभर लोग जान गंवा चुके हैं। पट्टी मेें मासूम की मौत के अलावा गड़वारा में बीते माह गेहूं के खेत में टूटकर गिरे तार की चपेट में आकर युवक की दर्दनाक मौत हुई थी। इसके अलावा मानधाता, रानीगंज, शिवगढ़, शहर में भी टूटे तार ने कई लोगों की जान ले ली। मगर विद्युत विभाग इस अव्यवस्था को लेकर तनिक भी गंभीर नहीं है।