BREAKING NEWS
Search
Film Festival bihar

सितारों के बीच ‘बोधिसत्त्वा’ फिल्म-महोत्सव का आगाज़

272

उद्घाटन समारोह में फिल्म और रंगमंच के सुविख्यात अभिनेता ओम पूरी जी को श्रद्धांजली भी दी गयी।

निखिल विद्यार्थी,

अगर आपको फिल्मे देखने में दिलचस्पी है और अलग-अलग देशों की संस्कृति को जानना चाहते है तो अवसर आपके सामने बाहें फैलाए खड़ी है। जी हाँ, अगर आप पटना में हैं तो आपके लिए बहुत बड़ी खुशख़बरी है।

16-23 फ़रवरी तक चलने वाली ‘बोधिसत्त्व अंतर्राष्ट्रीय फिल्म-महोत्सव’ का गुरुवार को सचिवालय के अधिवेशन भवन में उद्घाटन किया गया । एक हफ्ते तक चलने वाली इस महोत्सव में देश-विदेश की करीब 65 फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा।

‘ग्रामीण स्नेह फाउंडेशन’ के तले चलने वाली यह फिल्म-महोत्सव कई मायनों में ख़ास है। महोत्सव में दिखाए जाने के लिए करीब 122 देशों से 5400 से अधिक फिल्मों का आवेदन आया था, जिनमे अंतिम रूप से प्रदर्शन हेतु 65 फिल्मों का चयन किया गया है।

महोत्सव सचिव आईएएस श्री गंगा कुमार ने पत्रकारों से बताया कि महोत्सव में चार वर्गों में बाँट कर फिल्मो को दिखाई जाएगी जैसे फीचर फिल्म, डाक्यूमेंट्री फिल्म, शोर्ट फिल्म और एनीमेशन। इन सभी वर्गों में एक प्रतियोगिता होगी, जिसके विजेता फिल्म की घोषणा निर्णायक मंडल द्वारा की जाएगी।

इसमें सुप्रसिद्ध निर्देशक श्री गोविन्द निहलानी, संजय त्रिपाठी जैसी हस्ती शामिल हैं। उद्घाटन समारोह में बिहार के कला एवं संस्कृति मंत्री श्री शिवचंद्र राम, बिहारी बाबू शत्रुघ्न सिन्हा, स्वर-कोकिला सुश्री शारदा सिन्हा, विनीत कुमार, अखिलेन्द्र मिश्र, पंकज ठाकुर आदि मौजूद रहीं।

उद्घाटन समारोह में अपने विचारों को रखते हुए बिहारी बाबू ने बिहार में फिल्म-नीति और फिल्म-सिटी के निर्माण पर जोर दिया और कहा कि इससे राज्य की कला-संस्कृति और फिल्म-कल्चर को बढ़ावा मिलेगा। वहीं कला-संस्कृति मंत्री श्री शिवचन्द्र राम ने अपने अधिभाशण में जोर देते हुए कहा कि बिहार में फिल्म सेंसर बोर्ड की शाखा खोलने की पुरजोर कोशिश की जा रही है। ऐसा हो जाने पर फिल्मों में अश्लीलता रोका जा सकता है।

एक ओर स्वर-कोकिला शारदा सिन्हा ने अपने संबोधन में बिहार-सिनेमा खासकर भोजपुरी में अश्लीलता को लेकर क्षुब्ध दिखीं। उन्होंने विशेषकर गीतकारों और गायकों से अश्लील गानों का निर्माण न करने की अपील की।

इस बार फिल्म-महोत्सव में विदेशों से भी फिल्मकार आकर सिरकत करेंगे। फिल्म-महोत्सव के पहले दिन लीना यादव की निर्देशित और राधिका आप्टे अभिनीत फिल्म ‘पार्च्ड से महोत्सव का आगाज़ किया गया। मौके पर ‘ग्रामीण स्नेह फाउंडेशन’ की अध्यक्षा सुश्री स्नेह राउट्रे भी मौजूद रहीं।

मज़े की बात ये रही कि बिहारी बाबु शत्रुघ्न सिन्हा के संबोधन में उस वक्त हॉल में बैठे सभी लोग ठहाका लगाकर हंसने लगे जब गलती से उन्होंने कला-संस्कृति मंत्री श्री शिवचन्द्र राम को शिवशरण राम और अभिनेता अखिलेन्द्र मिश्रा को अखिलेश यादव कह दिया। फिर ‘…खामोश’ बोल अपने संबोधन को खत्म किया।

अन्य फ़िल्मी हस्तियों में अभिनेत्री तनिष्ठा मुखर्जी, गरिमा मिश्रा और गुजरात के वड़ोदरा घराने के श्री जितेन्द्र गायकवाड़ मुख्य आकर्षण के केंद्र रहे।