Kamleshwar Dwivedi

कार्यकर्ताओं की हो रही उपेक्षा पर भड़के मध्य प्रदेश शासन के पूर्व मंत्री, कही यह बात

226
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी। प्रदेश में सरकार बदलने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं कोई उम्मीद जगी थी कि बीते 15 वर्षों से ठप्प पड़े विकास कार्यों के साथ-साथ आम जनता के कार्य आसानी से हो सकेगी। लेकिन, 3 महीने बीत जाने के बाद भी कार्यकर्ताओं की पूछ परख तक नहीं हो रही, जिसके कारण कार्यकर्ता में असंतोष का भाव पनप रहा, तो कांग्रेस का वचन पत्र का पालन भी सीधी में हो तो रहा है पर जनता तक संदेश नहीं पहुंच पा रहा है।

वहीं भाजपा भ्रम फैला कर जनता को भ्रमित कर रही है, जिसको लेकर जनमानस में चर्चाएं तेज हो गई। कार्यकर्ताओं की उपेक्षा और सीधी में लंबे अरसे से पदस्थ भाजपा के मोह में फंसे अधिकारियों के फेरबदल ना होने के कारण लोकसभा चुनाव भी प्रभावित हो सकता है। इसको लेकर मध्य प्रदेश शासन के पूर्व मंत्री कमलेश्वर द्विवेदी ने चिंता जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखकर अवगत कराया है।

जिसमें उन्होंने बताया है कि किस तरह से कांग्रेस कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की जा रही है और अधिकारियों में अपने सरकार होने की पकड़ मजबूत नहीं की जा रही, उससे नुकसान हो सकता है।

मध्य प्रदेश शासन के पूर्व मंत्री कमलेश्वर द्विवेदी ने कहा कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कलेक्टर तो बदल दिए गए। लेकिन, अन्य कर्मचारी और अधिकारी भाजपा मानसिकता के हैं। बैठे हुए जिसके कारण कलेक्टर ने जो विकास कार्य शुरू किया है, उसमें भी बाधाएं उत्पन्न की जा रहे हैं, फुलछाब अधिकारियों के कारण प्रदेश सरकार द्वारा किए जा रहे हैं।

वचन पत्र के पालन की असलियत आम जनता तक नहीं पहुंच पा रही हैं, तो होने वाली बैठकों में जहां कांग्रेस के पदाधिकारियों को अभी भी उपेक्षित किया जा रहा है। वहीं विकास कार्यों में कांग्रेस के सहभागिता होने का एहसास आम जनों को नहीं होने दिया जा रहा पूर्व मंत्री ने रीवा सिंगरौली रेल मार्ग के निर्माण के लिए अधिग्रहित की गई जमीन के मुआवजा वितरण में की जा रही हीला हवाले पर भी चिंता जाहिर की है।

उन्होंने कहा कि 3 महीने में चुरहट से लेकर बाहरी तक के रेलवे लाइन के अधिग्रहित जमीन का मुआवजा देना तो दूर अभी तक धारा 21 का प्रकाशन भी नहीं कराया जा सका है। कांग्रेस सरकार को बदनाम करने के लिहाज से भाजपा नेताओं के इशारे पर राजस्व विभाग के अधिकारियों ने खड़यंत्र रचा है।

ऐसे अधिकारियों को बदलने की जरूरत थी। लेकिन किसके इशारे पर फूल छाप अधिकारियों पर मेहरबानी की गई है, यह किसी कार्यकर्ता के समझ में नहीं आ रहा मध्य प्रदेश शासन के पूर्व मंत्री ने सीधी विधानसभा क्षेत्र में होने वाले सरकारी कार्यक्रमों में कांग्रेस के पदाधिकारियों को ना केवल वंचित किया जा रहा है बल्कि, प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया गया। जिसके चलते कार्यकर्ता अपने आप को अपने ही सरकार में उपेक्षित महसूस कर रहा है।

उन्होंने प्रभारी मंत्री का सीधी जिले में ज्यादा से ज्यादा बैठक करने हर महीने बैठक कर क्षेत्र की समस्याओं की जानकारी लेने और उनके निराकरण के लिए पहल करने पर जरूरत बताई है। मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को लिखे पत्र में पूर्व मंत्री ने चेताया है कि कार्यकर्ताओं के सम्मान की लड़ाई लड़ने में भी हम पीछे नहीं रहेंगे उन्हें सम्मान दिलाने के लिए लड़ते रहेंगे।

श्री द्विवेदी ने कहा कि लोकसभा चुनाव की अधिसूचना जारी हो गयी। लेकिन, कांग्रेस के प्रति अधिकारियों के मन का भाव नहीं बदल सके। जिसके कारण वे कांग्रेस के पदाधिकारियों के उपेक्षा करने से बाज नहीं आ रहे यदि यही हालात बने रहे, तो विधानसभा चुनाव की तरह लोकसभा चुनाव का भी परिणाम भुगतना ना पड़े इसके लिए कांग्रेस के पदाधिकारियों को कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ कांग्रेस के वचन पत्र का जो पालन हुआ है।

उसकी जानकारी गांव के हर व्यक्ति तक पहुंचाने की जिम्मेदारी सौपनी होगी, तो सभी कार्यकर्ताओं को सजग करना होगा तो, किये गये कार्य पर उन्हें सम्मानित किया जाए। जिससे कि वे आम जनमानस को कांग्रेस की ओर आकर्षित कर बीते कई वर्षों से खो चुके सीधी संसदीय सीट को वापस कांग्रेस की झोली में डाल सकें कार्यकर्ताओं की उपेक्षा का असर लोकसभा चुनाव में ना पड़ सकें। इसके लिए प्रदेश कांग्रेश संगठन को कदम उठाने की जरूरत पर जो पूर्व मंत्री ने दिया है।

उन्होंने ने लोक सभा चुनाव के लिए उम्मीदवार के लिए नहीं कांग्रेस के लिए काम करने की नसीहत भी संगठन के साथ जिम्मेदार पदाधिकारियों को दी है।