rape

मानवता हुई शर्मसार, तीन दिनों तक छात्रा के साथ किया गया दुष्कर्म

107
Anil Upadhyay

अनिल उपाध्याय

देवास। सोमवार की सुबह नेमावर थाना अंतर्गत ग्राम बिजलगांव में दसवीं कक्षा में पढ़ने वाली 15 वर्षीय छात्रा स्कूल के लिए घर से निकली थी। मगर छात्रा वापस घर नहीं लौटीं। तब परिजनों ने नेमावर थाने पर गुमशुदगी दर्ज कराई पुलिस जिसे पुलिस तलाश ही कर ही रही थी कि शुक्रवार की सुबह वह वो अचानक घर लौट आई। इसके बाद छात्रा शुक्रवार शाम को अपने माता-पिता के साथ थाने पहुंचकर उसने अपने साथ हुए घटना की जानकारी दी।

नाबालिक के अनुसार उसके साथ पिछले तीन दिनों में चार बार अलग-अलग लोगों ने दुष्कर्म किया। पुलिस ने चारों युवको के खिलाफ धारा 376 डी 363 हरिजन एक्ट की धारा 3, 2 ,5 व पास्को एक्ट की धारा 4 एवं 6 के तहत मुकदमा दर्ज कर सभी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस को पूछताछ में नाबालिग छात्रा ने बताया कि 16 जुलाई को सुबह में स्कूल का बोल कर निकली थी।

मगर बस में खातेगांव चली गई और खातेगांव से किसी अरुण नाम के लड़के से मिलने इंदौर चली गई। लेकिन अरुण वहां नहीं मिला तब बालिका एक निजी यात्री बस से रात को खातेगांव के लिए निकली तभी रात करीब 11:00 बजे बस के कंडक्टर ने बालिका के साथ दुष्कर्म किया और उसे खातेगांव लाकर छोड़ दिया।

वही दूसरे दिन बालिका नसरुल्लागंज पहुंच गई। वहां पर दो युवक मिले यह दोनों युवक बालिका को ग्राम कठिवाड के एक स्कूल में ले गए जहां दोनों ने बारी-बारी से उसके साथ दुष्कर्म किया। तीसरे दिन बालिका ग्राम कोलारी में रहने वाले एक युवक की बाइक पर लिफ्ट लेकर संदलपुर आ रही थी तभी रास्ते में बाइक रोककर युवक ने खेत में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया और फिर संदलपुर फाटे पर लाकर छोड़ दिया।

वहां पर बालिका को उसके पिता मिल गए इसके बाद बालिका शुक्रवार की शाम को माता-पिता के साथ थाने पहुंची वहां पर उसने अपनी आप बीती बताई। पुलिस ने बालिका की रिपोर्ट पर आरोपी बस कंडक्टर ईश्वर मातमोर, संजय व गोपाल निवासी कठिवाड सहित कोलारी निवासी राजू से नेमावर पुलिस मामले को लेकर सख्त पूछताछ कर रही है।

देवास पुलिस अधीक्षक अंशुमान सिंह नेमावर थाने पहुंचे और उन्होंने टी आई मुकाती से पूरी घटना की जानकारी ली है। साथ ही उनके द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए हैं।