BREAKING NEWS
Search
giridih govt school toilet

मुखिया द्वारा विधालय निरक्षण के दौरान अनियमतता उजागर, कक्ष समेत शौचालय में गंदगी का अंबार

547
Raghunandan Mehta

रघुनंदन कुमार मेहता

गिरिडीह। राज्य सरकार जहाँ झारखंड की शिक्षा स्तर को सुदृढ बनाने के लिए नित्य नएे प्रयोग कर रही है। माध्यान भोजन, पोशाक, पाठय पुस्तक व साफ सफाई के प्रति लाखों रूपये खर्च किया जा रहा है। लेकिन विधालयों में कार्यरत पारा शिक्षक तु डाल-डाल तो मैं पात-पात के कहावत को चिरतार्थ करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

कुछ एेसा हीं नजारा शनिवार को सुबह के लगभग आठ बजे बिरनी अंचल क्षेत्र के पडरमनियां पंचायत के उत्क्रमित प्राथमिक विधालय कटूटाँड में पंचायत के मुखिया कैलाश प्रसाद मंडल द्वारा विधालय निरक्षण के दौरान सामने आया।

विधालय में नैनिहालों के लिए निर्माणाधिन शौचालय में लटका ताला यह दर्शा रहा था कि निर्माण काल से शौचालय का ताला कभी खुला हीं नहीं है। शौचालय के बाहर गंदगी का अंबार लगा हुआ था। और तो और विधालय के कक्षा को देखते से प्रतित हो रहा था कि या तो महिनों से विधालय खुला नहीं है अगर खुला है तो कक्षा की साफ सफाई नहीं किया गया है। कक्षा के अंदर मात्र पांच नैनिहाल गुम सूम अवस्था में बैठे मिले।

giridih govt school

Janmanchnews.com

मुखिया मंडल द्वारा नैनिहालों से पुछ ने पर बताया गया कि विधालय में एक माह से मध्याहन भोजन बंद है। विधालय में कभी पांच तो कभी आठ बच्चे आते हैं कभी कभार पंद्रह बच्चे आतेे है। निरक्षण के दौरान मुखिया मंडल को गाँव के ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि सरकार द्वारा विधालय के विकास के लिए प्रति हजारों रूपये विधालय दिया जाता है लेकिन आज तक शौचालय का रंग रोगन नहीं किया गया।

सचिव सह पारा शिक्षक रीतलाल मंडल द्वारा विधालय में अध्यनरत छात्र छात्राओं के लिए खरीदा गया समान अपने घरों में रखते हैं ।ग्रामिणों द्वारा इसका विरोध करने पर सचिव द्वारा अभद्र भाषा का प्रयोग किया जाता है। जिसपर मुखिया मंडल ने कहा कि यहाँ के सचिव सह पारा शिक्षक रीतलाल मंडल इतने निरंकूश हो गएे हैं कि जब मुखिया के साथ अभद्र भाषा का प्रयोग कर सकते हैं तो ग्रामीणों के साथ करना आम बात है।

तीन माह पूर्व विधालय की साफ सफाई के लिए विधालय को अलग से राशि उपलब्ध कराया गया है बावजूद यह हाल है। इसकी शिकायत शिक्षा विभाग के वरिय पदाधिकारीऔं से की जाएेगी।

मौके पर पंसस सिराज अंसारी, उप मुखिया उषा देवी, बालेश्वर सिंह समेत दर्जनों ग्रामीण मौजूद थे।