सस्ते में स्वर्ण आभूषण बेचने का लालच देकर ठगी करने वाला गिरोह गिरफ्तार

291

आदमपुर पुलिस नें इंस्पेक्टर आशुतोष ओझा की अगुवाई में भदंऊ क्षेत्र के सिवईं मण्डी से तीन पुरुष व एक महिला ठग को किया गिरफ़्तार…

वाराणसी: आदमपुर पुलिस को आज उस समय एक बड़ी सफलता हाथ लगी जब पिछले दो वर्षों से वाराणसी और आस पास के इलाकों में लोगों को बेवकूफ बनाकर पैसा ठगने वाले एक गैंग के चार सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया। पकडे गए ठगों के पास से 4 किलो से अधिक नकली सोने के ज़ेवर और 5 किलो गांजा बरामद किया गया है।

पुलिस के अनुसार ये सभी मज़दूरी का काम करते हैं और जहां काम करते है वहां आस पास की औरतों को झांसे में लेकर सोने के नाम पर धातु की वस्तु अधिक मूल्य पर बेच देते हैं और वहां से गायब हो जाते हैं।

इस सम्बन्ध में बात करते हुए आदमपुर थानाक्षेत्र की लाट भैरव चौकी इंचार्ज देवीशरण ने बताया कि हम सभी आगामी चुनाव के मद्देनज़र वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के निर्देशानुसार देखभाल क्षेत्र में वाहन एवं संदिग्ध चेकिंग अभियान चला रहे थे। उसी समय हमें बज़रिये मुखबिर सूचना मिली की क्षेत्र में सोने के नाम पर ठगी करने वाला गैंग विचरण कर रहा है, जल्दी किया जाए तो उन्हें पकड़ा जा सकता है।

इस सूचना पर विशवास करते हुए हम मय टीम भदऊ चुंगी की तरफ बढे तो मुखबिर ने तीन पुरुषों की तरफ इशारा किया तो हम उनकी तरफ बढे। इस दौरान वो वहां से हटने बढ़ने लगे और उनके साथ की एक महिला दूर जाकर खड़ी हो गई। तीनों पुरुषों और उक्त महिला के बैग की तलाशी ली गई तो सभी के पास से धातु की पीली चेन बरामद हुई और महिला के बैग से चेन बनाने का औज़ार भी मिला। इसके अल्वा इनके पास से 5 किलो गांजा भी बरामद हुआ है।

पकडे गए ठगों ने अपना नाम क्रमशः शंकर निवासी रामपुर भीमसेन, थाना सचेंडी कानपुर नगर, रवी निवासी टीकमपुर आशानंदपुर थाना बसरेहर जनपद इटावा, प्रभु राय भाट निवासी सत्यनगर टापाकाला, थाना फ़िरोज़ाबाद जनपद फ़िरोज़ाबाद एवं लक्ष्मी निवासी टीकमपुर आशानंदपुर थाना बसरेहर जनपद इटावा बताया। पुलिस ने बताया कि शंकर इस गैंग का लीडर है साथ ही शंकर और प्रभु राय भाट लक्ष्मी के दामाद हैं और रवी लक्ष्मी का लड़का है। इन्होने एक आदमी से एक सोने की चेन का एक लाख में सौदा किया था जिसे बेचने जाते समय पुलिस द्वारा पकड़ लिए गए।

इनको पकड़ने में मुख्य रूप से उपनिरीक्षक देवीशरण यादव, उपनिरीक्षक जयदीप सिंह, उपनिरीक्षक सदानंद राय, उपनिरीक्षक रविकांत चौहान, हेडकांस्टेबल धन जी सिंह, कांस्टेबल नवीन सिंह, कांस्टेबल मुख्तार खान, महिला कांस्टेबल संघदीपा एवं महिला कांस्टेबल वंदना ने मुख्य भूमिका निभाई।