BREAKING NEWS
Search
Gorakhpur beggar

मुख्यमंत्री योगी के शहर में भीख मांगने पर मजबूर अन्नदाता

336

12 गांव के किसानों ने मुख्यमंत्री से भी भीख मांगने की इच्छा जताई है, योगी आदित्यनाथ पर लगाया वादा भूलने का आरोप…

Priyesh Kumar "Prince"

प्रियेश कुमार “प्रिंस”

गोरखपुर। मानबेला में जमीन अधिग्रहण के मामले में किसान और जीडीए के बीच मामला सुलझता नजर नहीं आ रहा। मानबेला क्षेत्र के किसान अब सीधे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधने लगे हैं। किसानों का कहना है कि सत्ता में आते ही मुख्यमंत्री पूंजीपतियों का साथ देते हुए उनके उपर डंडा चलवा रहे हैं। अपनी जमीनों से वे लोग बेदखल हो गए हैं, भीख मांगने को मजबूर हैं। किसानों ने अपनी जमीन के लिए दस दिनों की मोहलत दी है, इसके बाद आंदोलन तेज करने की धमकी दी है।

मानबेला में जबरिया जमीन अधिग्रहण का आरोप लगाते हुए किसानों का आंदोलन अब सड़कों पर पहुंच रहा है। रविवार को काफी संख्या में किसानों ने शहर के चेतना तिराहे पर प्रदर्शन किया और घूम-घूमकर भीख मांगे। कटोरा लेकर भीख मांग रहे इन किसानों में काफी संख्या में महिलाएं भी शामिल रही।

इन किसानों का आरोप है कि योगी आदित्यनाथ की सरकार में उन लोगों को जमीनों से बेदखल किया जा रहा है। वे लोग अपनी जमीनों पर जा रहे तो प्रशासन डंडे मार रहा। बुजुर्ग महिलाओं पर भी रहम नहीं किया जा रहा। 

किसानों का कहना है कि जब योगी आदित्यनाथ सांसद थे तो वे उन लोगों के साथ खड़े थे। उस समय मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जो मुआवजा दे रहे थे उसके खिलाफ खुद योगी आदित्यनाथ उनके साथ थे। लेकिन जब खुद मुख्यमंत्री बने हैं तो हम किसानों को उसी जमीन से बेदखल करवा रहे। जबरिया डंडे के बल पर उनकी जमीनों को छिनवा रहे।

अगर उनकी जमीनें छीन गई तो वे लोग कहीं के नहीं रहेंगे। किसानों ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपना वादा याद करना चाहिए और उन लोगों को जमीन का तो कम से कम उचित मुआवजा मिले ताकि गरीब किसानों की आजीविका ठीक से चल सके। 

भिक्षाटन करने वालों में इंद्रावती देवी, तपेसरी देवी, सुगंधि देवी, नाजरा देवी, रेहाना खातून, मंजू देवी, सलमा, आशा देवी, जानकी देवी, फूलमती, रजनी, सारिका देवी, प्रतिभा देवी आदि शामिल रहीं।

इन गांवों के किसान कर रहे विरोध प्रदर्शन…

मानबेला, पोखरभिंडा, करीमनगर, फतेपुर, पीरन सईद, मिर्जापुर, हमीदपुर, मुगलपुर, मौर्या टोला, डिहवापुर समेत 12 गांव के किसान इस अधिग्रहण से प्रभावित है।