BREAKING NEWS
Search
बम

IED ब्लॉस्ट कर उड़ाया बाप-बेटे की धज्जियां, डेटोनेटर युक्त बम की सूचना से पुलिस महकमें में हडकंप

503

अमूमन जिस तरह के बमों का प्रयोग अब तक ट्रेंड आंतकियों के द्वारा किया जाता था, उसी तरह के बम से चौबेपुर में बाप-बेटे को मारनें के लिये किया गया है…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: यहाँ के चौबेपुर थानान्‍तर्गत मिलकोपुर गांव में एक सनसनीखेज घटना बीती रात तकरीबन 1:00 बजे घटी है। इस गांव में पिता-पुत्र को डेटोनेटर युक्त बम से बीती उड़ा दिया। गांव वालों के अनुसार रात में जब बम फटा तो लोगो को लगा कि किसी ट्रक का टायर फट गया है। हत्या की खबर तब हुई जब सुबह लोगों नें बाप-बेटे के सरों के चीथड़े बिखरा पाया। देखते ही देखते पूरे गांव में कोहराम मच गया। सूचना मिलने पर मौके पर एसएसपी(ग्रामीण), एसएसपी वाराणसी आनंद कुलकर्णी, सीओ तथा कई थाने की पुलिस टीम के साथ साथ फॉरेन्‍सिक टीम भी पहुंच गयी।

घटनास्‍थल से डेटोनेटर के टुकड़े भी मिले हैं, जिससे आशंका जतायी जा रही है कि इसे बड़े ही सुनियोजित ढंग से अंजाम दिया गया है। घटनास्‍थल पर पहुंचे वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक आनंद कुलकर्णी के अनुसार इस घटना में आईईडी (इम्‍प्रोवाइज्‍ड एक्‍स्‍प्‍लोसिव डवाइस) का प्रयोग किये जाने की बात प्रथम दृष्‍टया सामने आ रही है। पुलिस और फॉरेन्‍सिक टीम घटना की गहन जांच-पड़ताल करने में जुटी हुई है।

मौके से प्राप्‍त जानकारी के अनुसार चंद्रा-बलुआ मार्ग पर मिलकोपुर गांव में मंगलवार देर रात इस सनसनीखेज घटना को अंजाम दिया गया है। यहां खरी-चूनी का व्‍यवसाय करने वाले पिता-पुत्र लालजी यादव और अजय यादव के सिर को बम से उड़ा दिया गया है। पिता जहां घर के बरामदे में सो रहा था, वहीं पुत्र घर के बाहर सोया हुआ, जिस वक्‍त इस घटना को अंजाम दिया गया।

प्रथम दृष्‍टया यही प्रतीत हो रहा है कि घटना के वक्‍त दोनों के सिर के पास विस्‍फोटक रखकर तार के सहारे 50-60 मीटर दूर से ब्‍लास्‍ट कराया गया है। इसमें दोनों के सिर की धज्जियां उड़ गयी। स्‍थानीय लोगों के अनुसार घटना की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिता-पुत्र के सिर के पास किये गये ब्‍लास्‍ट से दोनों की खोपड़ियां एक झटके में ही उड़ गयीं। खोपड़ी के उड़े हुए हिस्‍से 40 मीटर दूर तक मिले हैं।

लोगों के अनुसार बीती रात में घटित हुई इस घटना के दौरान तेज धमाके की आवाज आयी। इसे काफी दूर तक सुना गया। बावजूद इसके लोगों ने ये सोचकर कि किसी गाड़ी का टायर फटा होगा, घटनास्‍थल तक जाने की जहमत नहीं उठायी। सुबह जब लोगों ने पिता-पुत्र की सिर फटी लाश देखी तो सबके होश उड़ गये। गांव में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पुलिस को फोन पर जानकारी दी गयी।

गांव में हुई इस दुर्दांत तरीके से हत्‍या के बाद ग्रामीणों में खासा रोष व्‍याप्‍त है। इसे लेकर ग्रामीणों ने चंद्रा-बलुआ मार्ग पर हत्‍यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर चक्‍काजाम कर दिया है। मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारी ग्रामीणों को समझाने-बुझाने में लगे हुए हैं। ग्रामीणों की ओर से दोनों मृतकों के परिजनों 25-25 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग की गयी है।

घटना की सूचना मिलते ही जिले के पुलिस आलाधिकारी मौके पर पहुंच चुके हैं। वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक, ग्रामीण पुलिस अधीक्षक, सीओ पिंडरा और तकरीबन 10 थानों की पुलिस टीम के साथ साथ फॉरेन्‍सिक टीम भी जांच-पड़ताल में जुट गयी है। फिलहाल घटना के कारणों के संबंध में स्‍थानीय लोगों ने बताया है कि इन लोगों को पड़ोस के ही एक मिल मालिक से जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। पुलिस परिजनों से भी घटना के संबंध में जानकारी इकट्ठा कर रही है। वहीं लखनऊ से डीजीपी कार्यालय ने भी इस घटना पर वाराणसी पुलिस से जानकारी मांगी है।