BREAKING NEWS
Search

न पीये ऐसी ताड़ी वरना हो सकता है ‘राम नाम सत्य’

880

शबाब ख़ान
वाराणसी: शहर के पड़ाव क्षेत्र में इन दिनों कई अवैध ताड़ीखाने धड़ल्ले से चल रहे हैं। पड़ाव से रामनगर की ओर जाने वाली सड़क के आस-पास के रास्तों, गलियों और डोमरी, सेमरा, साहुपुरी, कटेसर आदि गांवों में ऐसे दर्जनों ताड़ीखाने खुले हैं जिनके पास कोई लाईसेंस नहीं हैं।

सूत्र तो यहां तक बताते हैं कि ताड़ी वाले नशा बढ़ाने के लिए ताड़ी में ऐसी नशीली टैबलेट्स तक मिला देते हैं जो आमतौर पर नहीं मिलती। ऐसे में दवा कि जरा सी अधिक मात्रा ताड़ी पीने वाले को परलोक पहुंचा सकती है।

कई देशी शराब के दुकान वाले भी शराब के लाइसेंस पर ताड़ी बेच रहे हैं। शहर के उस पार और गांव क्षेत्र होने के चलते यहां प्रशासन का भी आना-जाना थोड़ा कम है, ऐसे में यह क्षेत्र नशेड़ियों का सबसे सुरक्षित अड्डा बन चुका है। शाम होते ही शहर से नशेड़ियों का जत्था यहां पहुंच जाता है, आधी रात तक ये लोग खूब ताड़ी पीते हैं और नशे में गाली-गलौज और मारपीट भी करते हैं। स्थानीय नागरिक भी इनसे काफी परेशान रहते हैं।

कुछ क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि रात को यही नशेड़ी शहर और गांव क्षेत्र में चोरी-छिनैती आदि घटनायों को अंजाम देते हैं। ऐसी स्थिति में प्रशासन को भी चाहिए कि वे जल्द से जल्द इन अवैध ताड़ीखानों को बंद करवाये नहीं तो क्षेत्र में किसी दिन बड़ी अप्रिय घटना भी घट सकती है।