BREAKING NEWS
Search
Scribe

ममता बनर्जी के साथ लंदन गए पत्रकारों ने देश को किया शर्मसार, होटल से चांदी के चम्मचें चुराते हुये कैमरों में कैद

296

सभी पत्रकार संपादक स्तर के थे जिन्हे उनके मीडिया हाऊस नें ममता के साथ लंदन जाने के लिये चुना था…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 





लंदन: पत्रकार को समाज में सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है, उन्हे समाज का आइना कहा जाता है। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिससे जुड़े लोगों से ईमानदारी और बहादुरी की अापेक्षा की जाती है, और अपनी ईमानदारी और बहादुरी का प्रदर्शन करने के लिये किसी विदेशी होटल में भारतीय नेता के साथ मेहमानवाज़ी का लुत्फ उठाते हुये चांदी के चम्मच, छुरी, कांटें चुरानें से अच्छा तरीका तो हो ही नही सकता।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ आधिकारिक यात्रा पर लंदन गए पत्रकारों की शर्मसार कर देने वाली हरक़त का ख़ुलासा हुआ है। लंदन के आलीशान होटल में रात्रिभोज के दौरान इन पत्रकारों ने चांदी की चम्मचें, छुरी-कांटे तक चुरा लिए। वह भी तब जब उनकी हर हरक़त सीसीटीवी कैमरों में लाइव रिकॉर्ड हो रही थी। ख़बर की मानें तो इस हरक़त के लिए एक पत्रकार से 50 यूरो (लगभग 3,800 रुपए) का हर्ज़ाना भी वसूल किया गया है।

ख़बर के अनुसार होटल का स्टाफ़ उस समय भौचक रह गया जब उसने देखा कि बनर्जी के साथ रात्रिभोज की टेबल पर बैठे पत्रकार चांदी की चम्मचें, छुरी-कांटे चुराकर अपने जेबों और बैगों में डाल रहे हैं। बताया जाता है कि सबसे पहले एक प्रतिष्ठित बंगाली समाचार पत्र के प्रतिनिधि ने चम्मच उठाकर अपनी जेब में डाली, उसके बाद ‘डोमिनो इफेक्ट’ जैसे विज्ञान के सिद्धांत का पालन करते हुये वहां मौजूद लगभग सभी पत्रकारों नें वही हरकत करना शुरु कर दिया। पुरुष पत्रकारों नें अपनी जेबों में चांदी की कटलरी सरकाई तो महिलाओं ने अपने हैण्डबैग का सहारा लिया।

सभवत: यह सभी पत्रकार भाई-बहन अंग्रेजो द्वारा भारत से ले जाये गये सोने-चांदी को वापस लाने जैसा देशभक्ति का काम कर रहे हों…

…लेकिन विदेशी मीडिया उनकी इस हरकत को छिछोरी हरकत के रूप में देखता है। विश्व मीडिया ‘इंडियन स्क्राइब्स’ नाम का इस्तमाल कर खूब छीछालेदर कर रहा है, पाकिस्तानी मीडिया तो जैसे इसी इंतज़ार में बैठी थी… जैसे ही खबर आई उन्होने ‘स्पेशल रिपोर्ट’, ‘भारत के अख़बारनवीसों की ओझी हरकत’, ‘इंडियन जर्नालिस्ट्स कॉट स्टीलिंग द सिल्वर कटकरी’ जैसे टाइटिल के अंतर्गत हमारी बिरादरी के दिग्गजों की भद् पीटना शुरु कर दिया। बनर्जी जैसी नेता को उनकी इस हरकत के लिए शायद ‘क्रांतिकारी पत्रकार’ का खिताब देना चाहिए।

बताते हैं कि पत्रकारों की हरक़त को सीसीटीवी के जरिए लाइव देख रहे होटल के सिक्युरिटी स्टाफ़ के सदस्यों में पहले कुछ समय तक यह चर्चा होती रही कि सुरक्षा अलार्म बजाकर स्थिति से निपटा जाए। लेकिन इससे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सम्मान और गरिमा को ठेस लगती। इसलिए यह विचार टाल दिया गया क्योंकि रात्रिभोज में बनर्जी के साथ भारत और ब्रिटेन के कई गणमान्य अतिथि भी वहां मौजूद थे।

रात्रिभोज के बाद होटल स्टाफ़ ने चम्मच चोर पत्रकारों के पास जाकर उन्हें धीरे से बताया कि उनकी चोरी पकड़ी गई है। सब कुछ कैमरे में रिकॉर्ड हो चुका है। बताया जाता है कि इतना सुनते ही लगभग सभी पत्रकारों ने चोरी के चम्मच, छुरी-कांटे बैग से निकालकर वापस कर दिए। लेकिन एक पत्रकार इस बात पर अड़ा रहा कि उसने चोरी नहीं की है। तब होटल के सिक्युरिटी स्टाफ़ काे उससे सख़्ती बरतनी पड़ी, उसी से 50 यूरो का जुर्माना भी वसूला गया।

[email protected]