BREAKING NEWS
Search
Rahul Gandhi

मध्य प्रदेश के चुनाव को लेकर कांग्रेस ने तय किया मास्टरप्लान

716

कांग्रेस का मास्टर प्लान – कांग्रेस का दावा 70 पर जीत पक्की, 110 पर लगेगी मेहनत, 40 नामुमकिन, कांग्रेस ने चार जोन के साथ चार केटेगरी में बांटीं विधानसभा सीटें, बदले जाएंगे चार सौ ब्लॉक अध्यक्ष -चुनाव जीतने के लिए  कांग्रेस ने तैयार किया यह मास्टर प्लान।

इंदौर। MP चुनाव को लेकर कांग्रेस अपनी पूरी ताकत लगाती हुई नज़र आ रही है। पिछले 15 सालों से सत्ता से रही दूर कांग्रेस इस बार अपनी वापसी को लेकर काफी मेहनत करती नज़र आ रही है। इस बार पार्टी ने अपने टीम में कई बदलाव भी किये है। इस बार उनके उम्मीदवारों में कई नए चहेरे होंगे तो कई पुराने उम्मीदवारों का टिकेट भी कट चुकी है।

विधानसभा चुनाव जीतने के लिए पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश को चार जोन और विधानसभा सीटों को चार केटेगरी में बांटा है। इसी फॉर्मूले के आधार पर कांग्रेस चुनावी तैयारी में जुटी है। इन चार जोन के प्रभारी एआईसीसी के अलग-अलग सेक्रेटरी बनाए गए है।

वही इसके अलावा चार श्रेणियों में सभी 230 विधानसभा सीटों को बांटा गया है, जिसमें जीत-हार के हिसाब से सीटें तय की गई है। साथ ही का जल्द ही कांग्रेस अपने साढ़े चार सौ से ज्यादा ब्लॉक अध्यक्षों को बदलने जा रही है इतना ही नहीं 800 उप ब्लॉक के गठन की तैयारी में लगी है।

इन श्रेणियों में बंटी 230 विधानसभा सीटें प्रदेश की सभी 230 विधानसभा सीटों को चार केटेगरी ए,बी,सी,डी में बांटा गया है। प्रदेश की 70 सीटें ए केटेगरी में हैं यानी इन पर कांग्रेस की जीत पक्की है। बी केटेगरी में 60 सीटें हैं जिन पर थोड़े परिश्रम से जीत हासिल की जा सकती है।

साथ ही सी केटेगरी में 50 सीटें रखी गई है, जहां पर रणनीतिक रूप से मेहनत कर कुछ सीटें पक्ष में लाई जा सकती हैं और 40 सीट डी केटेगरी में हैं जहां कांग्रेस तीन से चार बार हारी है यानी इन पर जीत बेहद मुश्किल है।

वही 15 जिलों की 64 विधानसभा सीट हैं जो कि ग्वालियर-चंबल संभाग की सीटें और कुछ मालवा-मध्यभारत की सीटें भी शािमल है, इस जोन की प्रभारी एआईसीसी सेक्रेटरी वर्षा गायकवाड़ है। जोन दो में दस जिलों की 52 सीट ली गई हैं, इनमें बुंदेलखंड की सीटें और कुछ महाकौशल-विंध्य की सीटें भी शामिल है, इस जोन के प्रभारी एआईसीसी सेक्रेटरी सुधांशु त्रिपाठी है।

इतना ही नहीं इस चुनाव में पार्टी के लिए महिलाओं की भी अहम भूमिका नज़र आने वाली है। इसी संदर्भ में पार्टी महिला की भी भागेदारी के लिए 21 जुलाई को भोपाल में बड़ा सम्मलेन आयोजित किया जा रहा है। जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष सुष्मिता देव शामिल होगी।