BREAKING NEWS
Search
rajnish tiwari

छात्र विरोधी बिहार सरकार लाठी के बल पर छात्रों की आवाज को दबाना चाहती है: युवा जाप प्रदेश प्रवक्ता रजनीश तिवारी

221

पटना। पटना विश्वविद्यालय अध्यक्ष मनीष कुमार की रिहाई को लेकर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के घर के बाहर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे जन अधिकार छात्र परिषद के कार्यकर्ताओं पर अलोकतांत्रिक तरीके से लाठी चार्ज करने की घटना पर जन अधिकार पार्टी (लो) ने आक्रोश व कड़ी निन्दा प्रकट किया है।

पार्टी के युवा परिसद के प्रदेश प्रवक्ता रजनीश कुमार तिवारी ने इस घटना बेहद शर्मनाक और निंदनीय करार दिया है। उन्होने कहा की बिहार सरकार की मानसिकता छात्र विरोधी हो गई। सरकार छात्रों को देखना नहीं चाहती शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे छात्र परिषद के कार्यकर्ताओ जो पटना विश्वविद्यालय अध्यक्ष मनीष कुमार की रिहाई को लेकर लोकतांत्रिक तरीके से शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के घर के बाहर मनीष कुमार की रिहाई की मांग कर रहे थे।

निहत्थे छात्रों पर बर्बरता पूर्ण लाठी चटकाना कायरता पूर्ण काम है। बिहार सरकार को इसका खामियाजा चुकाना पड़ेगा। क्या लोकतंत्र में अपने अधिकार के लिए प्रदर्शन करना गुनाह है कि मनीष कुमार को आज 3 महीने से ज्यादा दिन हो गए। अभी तक जेल में रखा गया।

आखिर बिहार सरकार उनकी रिहाई क्यों नहीं होने देती? फर्जी मुकदमे में उन्हें बदले की भावना से ग्रसित होकर जेल में डाला गया है। जो छात्र लोकतंत्र का गला घोटने का प्रयास है। मनीष कुमार का इतना ही गुनाह था की वह पटना विश्वविद्यालय के गेट पर लॉकडाउन में कोटा एवं अन्य शहरों फंसे छात्र – छात्राएं की घर वापसी की मांग कर रहे थे क्या छात्र की सुरक्षा का मांग करना गुनाह है?

इस मांग का सजा वे आज तक भुगत रहे है 3 महीने से ज्यादा दिन हो गए अब तक उनका रिहाई नहीं हो सका। बिहार सरकार को अभिलंब एक प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय के अध्यक्ष जोकि छात्रों की आवाज के लिए हमेशा संघर्ष करता रहा है। उसकी अभिलंब रिहाई करनी होगी उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से यह मांग किया है।

जन अधिकार छात्र परिषद के कार्यकर्ताओं पर बर्बरता पूर्ण लाठीचार्ज किया गया जिसमें दर्जनों कार्यकर्ता गंभीर रूप से चोटिल हुए साथ ही साथ दो छात्रो को भी गिरफ्तार किया गया सरकार लाठी और जेल के बल पर छात्रों की आवाज को दबाना चाहती है जो लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है बिहार सरकार के इस उदासीन रवैया के खिलाफ बिहार के तमाम छात्र- छात्राएं उन्हें बिहार विधानसभा चुनाव में सबक सिखाने का काम करेंगे।

रजनीश तिवारी ने कहा शर्म आनी चाहिए बिहार की डबल इंजन सरकार को जो एक तरफ अपने बड़े-बड़े भाषणों में छात्र युवाओं को देश का भविष्य बताते है तो दूसरी अपने हक की आवाज उठाने वाले छात्र युवाओ पर फर्जी मुकदमा डाल कर जेल में बंद करते है। बीच चौराहे पर पटना विश्वविद्यालय जैसे प्रतिष्टित संस्थानों के छात्रों को दौरा दौरा कर पीटते है लेकिन उनसे पूछने वाला कोई नहीं है।

बिहार के विपक्ष के इतने बड़े-बड़े नेता जो बहुजन एकता की बात करते है जो पिछड़ो की बात करते है। वो भी आज चुप है पता नही उन्हें सरकार से किस बात की डर है। बिहार और देश की सत्ता में अधिकतम भगीदारी पटना विश्वविद्यालय से है मगर सबसे अधिक शोषण इसी विश्विद्यालय के छात्रों का हो रहा है।