BREAKING NEWS
Search
Jounalist Jamaal Khasogi

पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के मामले में 8 लोग दोषी, 5 को मौत की सजा

284

New Delhi: अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के मामले में सऊदी की कोर्ट ने 8 लोगों को दोषी करार दिया है। इनमें से 5 को मौत की सजा सुनाई गई। तीन अन्य लोगों को कुल 24 साल जेल की सजा दी गई है। सऊदी सरकार के अभियोजन पक्ष की तरफ से बताया गया था कि खशोगी की हत्या सऊदी के ही कुछ लोगों ने की थी। इस मामले में 11 लोगों पर मामला चलाया गया था। हालांकि, इनके नाम का खुलासा नहीं किया गया था।

तुर्की स्थित सऊदी दूतावास में हुई थी खशोगी की हत्या

खशोगी अमेरिकी समाचार पत्र वॉशिंगटन पोस्ट के कॉलमिस्ट थे। उन्हें आखिरी बार 2 अक्टूबर को इस्तांबुल के सऊदी अरब के दूतावास के बाहर देखा गया था। वह वहां अपनी शादी के लिए जरूरी कागजात लेने गए थे। तुर्की के सबा अखबार ने दावा किया था कि सऊदी अरब से एक हिट टीम जमाल खशोगी को रियाद ले जाने का बहाना किया। लेकिन जब खशोगी नहीं माने तो दूतावास में ही उनका चेहरा ढककर दम घोंट दिया गया।

तुर्की सरकार ने उनके शव को खोजने के लिए दूतावास की भी जांच की। हालांकि, आज तक खशोगी की लाश बरामद नहीं की जा सकी है। एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि खशोगी को मारने के बाद हिट टीम के सदस्यों ने उनकी लाश को नष्ट करने के लिए उसे तेजाब में डाल दिया था।

सऊदी प्रिंस पर लगे थे खशोगी की हत्या से जुड़े होने के आरोप
इससे पहले सऊदी अधिकारी खाशोगी की हत्या में हाथ होने से इनकार करते रहे हैं। हालांकि, तुर्की के अखबार इस मामले में खुलासा करते रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र की हत्याकांड से जुड़ी एक रिपोर्ट में एक्सपर्ट एग्नेस कैलामार्ड ने कहा था कि खशोगी की हत्या से जुड़े सबूतों के आधार पर कहा जा सकता है कि सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान और उनके उच्चाधिकारी हत्या से जुड़े हुए थे। उन्होंने मामले में प्रिंस सलमान की जांच की बात कही थी। हालांकि, क्राउन प्रिंस अपने ऊपर लगे आरोपों से इनकार करते रहे हैं।

प्रिंस सलमान ने ली थी हत्या की नैतिक जिम्मेदारी

हाल ही में अमेरिका की पब्लिक ब्रॉडकास्टर सर्विस ने खशोगी की हत्या पर बनी डॉक्यूमेंट्री रिलीज की थी। इसमें एक मौके पर प्रिंस सलमान कहते हैं कि खशोगी की हत्या के लिए वे नैतिक जिम्मेदारी लेते हैं, क्योंकि यह उन्हीं की निगरानी में हुई। हालांकि, विशेषज्ञों का कहना था कि प्रिंस सलमान का यह बयान आपराधिक जिम्मेदारी नहीं बल्कि नैतिक जिम्मेदारी है। वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अच्छी छवि बनाए रखना चाहते हैं।