BREAKING NEWS
Search
amethi poor home

अमेठी में जंगल राज! कागजों में दर्ज होता है आदेश…

608
Meenakshi Mishra

मीनाक्षी मिश्रा

अमेठी। अमेठी वैसे तो राजनैतिक रूप से अपनी पहचान रखता है। किंतु वर्तमान समय में अमेठी में राजनीति के साथ साथ जंगल राज की चर्चा जोरों पर है। पीड़ित कितना भी चक्कर काट ले कार्यवाही के नाम पर दबंगों को ही बढ़ावा दिया जाता है। बीते दिनों नायब तहसीलदार के कारनामे चर्चा में थे। किंतु प्रशासन के कान पे जूं ना रेंगना अंधे कानून की ओर इशारा करता है।

एक ओर जहाँ सपा सरकार में जहाँ कानून व्यवस्था को लेकर भारी किरकिरी का सामना करना पड़ा था। वहीं वर्तमान समय में स्थानीय भ्रष्ट्र अधिकारियों की मिलीभगत के चलते बदमाशों के हौंसले बुलन्दी पर नजर आ रहे हैं। कहीं किसी के घर का रास्ता रोक दिया जा रहा तो कहीं किसी की जमीन पर अवैध कब्जा हो रहा। भ्रष्ट्र अधिकारी मुख्यमंत्री की साख पर बट्टा लगाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे।

ताजा मामला विधान सभा अमेठी के ग्राम ककवा का है। जहाँ की निवासिनी पीड़िता कृष्णा मौर्या उसी गांव के दबंग राजेंद्र सिंह व जितेंद्र सिंह पुत्र लालबहादुर से अत्यधिक प्रताड़ित है। प्रार्थिनी के घर के सहन पर दबंगों ने केवल 4 फुट का रास्ता छोड़कर दीवाल खड़ी कर ली। जिसमें भ्रष्ट्र प्रशासन ने दबंगों का पूरा सहयोग किया। पीड़ित का आवागमन बाधित हो गया है।

amethi poor home

Janmanchnews.com

यही नहीं लेखपाल के सम्मुख ही दबंगों ने पीड़िता को गालियां देते हुए अभद्रता का प्रयास किया। किन्तु बहरा हो चूका कानून उसे कुछ भी सुनाई नही दिया। आलम यह है कि दबंगों ने पीड़िता का घर से निकलना दूभर कर दिया है। और प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है।

जिसके एवज में पीड़िता ने अमेठी उपजिलाधिकारी के पास अवैध निर्माण को तत्काल रोकने व रास्ता खुलवाने की अर्जी दी। विदित हो कि उक्त प्रकरण का पूर्व में वाद एस डी एम अमेठी के न्यायालय में लंबित चल रहा है। अतः एस डी एम द्वारा नये निर्माण को रोकने का आदेश बीते 22 दिसम्बर को जारी किया गया। किन्तु उसका अनुपालन अब तक नही हुआ। साथ ही पीड़िता पर समझौते का दबाव बनाया जाने लगा।

पीड़िता का घर से निकलना दूभर हो गया है। साथ ही दबंग ने पीड़िता को दुष्कर्म व जान से मारने की धमकी दी। किन्तु हल्का इंचार्ज दरोगा का कहना था कुछ भी कर लो जांच मेरे पास ही आनी है।

ऐसे में लगता है आम जन के लिये अमेठी सुरक्षित नही रहा। साथ ही अमेठी जंगल राज के रूप में अपनी विशिष्ट पहचान बनाता जा रहा। जहाँ पर कितनी भी आवाज उठा लो कार्यवाही के नाम पर दबंगों को ही संरक्षण दिया जायेगा।