BREAKING NEWS
Search
supreme court of india

अयोध्या विवाद: मुस्लिम पक्ष के वकील की यह आपत्ति पर जस्टिस ललित हुए अलग, 29 जनवरी तक सुनवाई टली

586

नई दिल्ली। अयोध्या विवाद को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में दायर अपीलों पर सुनवाई शुरू की।

मगर गुरुवार को इस मामले पर सुनवाई शुरू होते ही मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने पांच जजों की संविधान पीठ में जस्टिस यूयू ललित के होने पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि जस्टिस ललित 1994 में कल्‍याण सिंह के वकील रह चुके हैं।

हालांकि इस मुद्दे को लेकर सवाल उठाते हुए राजीव धवन ने कहा कि मुझे यह अफसोस है कि यह मसला उठाना पड़ रहा है। वहीं इस सवाल पर चीफ जस्टिस ने कहा कि आपको अफसोस करने की कोई जरूरत नहीं है। आपने तो अपने तथ्‍यों को कोर्ट के सामने पेश किया है।

आपको बताते चले राजीव धवन के सवाल उठाने के बाद चीफ जस्टिस ने बाकी जजों के साथ विचार करना शुरू किया। जिसके बाद जस्टिस यूयू ललित ने सुनवाई से अपने आप को अलग करने की बात कही।

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यों की बेंच चीफ जस्टिस की अध्यक्षता सुनवाई होने वाली थी, मगर जस्टिस यू ललित के मामले से अलग होने के बाद इस सुनवाई को 29 जनवरी तक टाल दिया है।