Police Meeting

सड़क दुर्घटनाओं के रोकथाम को लेकर पुलिस अधीक्षक की बड़ी बैठक, दिए कार्रवाई के सख्त निर्देश

91
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी- दिनोंदिन बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं के चिंताजनक पहलू और सुप्रीम कोर्ट की रोड सेफ्टी कमेटी द्वारा दिए गए निर्देशों के परिपालन में परिवहन आयुक्त डॉ. शैलेंद्र श्रीवास्तव ने मोटरयान अधिनियम के प्रावधानों के तहत प्रभावी कार्रवाई के लिए परिपत्र जारी किया है.

इसके तहत लापरवाही पूर्ण तरीके से ड्राइविंग करने वालों के न सिर्फ लाइसेंस निलंबित किए जा सकेंगे, बल्कि निरस्त भी कर दिए जाएंगे। इस कार्रवाई से सड़क दुर्घटनाओं के ग्राफ में कमी आएगी.

78 फीसदी दुर्घटनाएं वाहन चालक की गलती-

देश में प्रतिवर्ष सड़क दर्घटनाओं मे डेढ़ लाख लोगों की मौत होती है. इनमें 78 फीसदी दुर्घटनाएं वाहन चालक की गलती से होती है. यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले पर कड़ी कार्रवाई नितांत आवश्यक है. सुप्रीम कोर्ट की रोड सेफ्टी कमेटी ने भी ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित करने के निर्देशित किया है जो मोटरयान अधिनियम के प्रावधान के अंतर्गत निलंबन योग्य है.

न्यायालय से दोष सिद्ध पर चालन अनुज्ञप्ति निलंबन-

किसी व्यक्ति की मृत्यु या घोर उपहति कारित करने लिए न्यायालय दोष सिद्ध करता है, तो चालान अनुज्ञप्ति निलंबित व रद्द करने का प्रावधान है. यदि कोई व्यक्ति धारा 185 मदिरा या मादक द्रव्य के प्रभाव में रहते हुए वाहन चलाने का दोषसिद्ध किया गया तथा पुन: उसी धारा के तहत दोषसिद्ध किया जाता है तो पश्चातवर्ती दोषसिद्ध करने वाले न्यायालय द्वारा ऐसे ब्यक्ति की चालन अनुज्ञप्ति रद्द करने का प्रावधान है.

पुलिस अधीक्षक बैठक बुलाकर दिए कड़े निर्देश-

पुलिस अधीक्षक तरुण नायक द्वारा थाना प्रभारियों को सम्बोधित करते हुए कहा की जिले में बढ़ रही सड़क दुर्घटना के मामले चिंताजनक उन्हें रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाएं. उन्होंने जिले के सभी थाना एवं चौकी प्रभारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये पुलिस अधीक्षक ने कहां की सड़क दुर्घटना रोकथाम हेतु मार्गो में जिगजैग बनावे ब्लैक स्पॉट को चिन्हित कर दुर्घटना को कम करने हेतु उपाय करें.

देहात क्षेत्र में हेलमेट चेकिंग करें नए लड़कों तथा तीन सवारी आवारा तत्वों की धरपकड़ करें लोगों को जागरूक करें नशा में वाहन चलाने वालों पर कार्रवाई करें, सभी लंबित अपराधों का त्वरित निराकरण करें.

गिरफ्तारी और स्थाई वारंटी तामिली आवश्यक रूप से करें अदम तामीली होने पर संबंधित को दंड दिया जाएगा. थाना प्रभारी अदम तामील वारंटों की समीक्षा करें. नई हिस्ट्रीशीट खोलें व गुंडा फाइल बनावे जिला बदर के पेंडिंग प्रकरणों में अभिलंब साक्ष्य देकर अंतिम आदेश जारी करावें गंभीर अपराध, महिला संबंधी अपराध एवं अनुसूचित जाति जनजाति अपराधों का निराकरण समयसीमा में करें.

आबकारी एक्ट में अधिकाधिक कार्रवाई करें जघन्य एवं सनसनीखेज़ चिन्हित मामलों में गवाहों को समझाकर न्यायालय में कथन करावें ताकआरोपी को ज़्यादा से ज़्यादा सजा मिल सके. संपत्ति संबंधी अपराधों का खुलासा करना सुनिश्चित करें रात्रि गश्त नियमित रूप से हो ऐसा सुनिश्चित करें एसडीओपी 15 दिवस में मर्ग की समीक्षा कर नस्तीबध्द की कार्रवाई करें.

मुंह बांधकर मोटरसाइकिल चलाने वालों पर सख्ती से कार्रवाई करें. शाम को नियमित वाहन चेकिंग करें, आकस्मिक रूप से भी चेकिंग करें. थाने में रात्रिकालीन कैदियों पर नजर रखें अभिरक्षा में मृत्यु किसी हाल में बर्दाश्त नहीं की जाएगी. थाना प्रभारी व अनुभागीय अधिकारी इसके लिए दोषी होंगे सप्ताह में विवेचकों की बैठक लेने अपराध की समीक्षा करें.

वर्दी सभी अधिकारियों की सही होना चाहिए. अनुशासन में रहें जनता से विनम्र व्यवहार करें बैठक में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सूर्यकांत शर्मा, अनुभाग विभागीय अधिकारी पुलिस चुरहट लक्ष्मण अनुरागी एवं कुसमी पी प्रजापति एवं सभी थानों तथा चौकी प्रभारी उपस्थित थे.