वकील

यूपी में कानून-व्यावस्था की हालत दयनीय, इलाहाबाद में दिन-दहाड़े अधिवक्ता की गोली मारकर हत्या

265

साथी की हत्या से आक्रोशित वकीलों नें जमकर काटा बवाल, एक बस तीन दोपहिया वाहन किया आग के हवाले; स्थिति बिगड़ते देश भारी पुलिस बल के साथ-साथ पीएसी भी की गई तैनात…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

इलाहाबाद: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इलाहाबाद में मारे गए वकील के परिजनों को 20 लाख की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। साथ ही अधिकारियों को 24 घंटे के अंदर कार्रवाई कर अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करने के आदेश दिए हैं।

गौरतलब है कि इलाहाबाद के कर्नलगंज थाना क्षेत्र में गुरुवार को एक वकील की हत्या के बाद हालात बिगड़ गए। वकीलों ने शव सड़क पर रखकर जाम लगा दिया। इतना ही नहीं कई क्षेत्रों में आगजनी की घटनाओं को भी अंजाम दिया गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रशासन ने भारी पुलिस फोर्स मौके पर तैनात कर दिया है।

पुलिस के मुताबिक घर से न्यायालय जा रहे अधिवक्ता राजेश श्रीवास्तव की बाइक सवारों ने गोली मारकर हत्या कर दी। गोली मारने के बाद अपराधी फरार हो गए। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

इस पूरे मामले में चौंकाने वाली बात यह है कि गुरुवार को कुंभ की तैयारियों की समीक्षा के लिए प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह और मुख्य चीफ सेक्रेटरी राजीव कुमार भी शहर में हैं। जहां पर हत्या हुई वहां से दोनों का काफिला कुछ देर पहले ही गुजरा था।

वकीलों के आक्रोश को देखते हुए मुख्यमंत्री ने जल्द से जल्द कार्रवाई सुनिश्चित करने के आदेश दिए हैं।

इधर जैसे ही यह खबर वाराणसी पहुँची, यहां के वकीलों नें भी कार्य ठप कर दिया। सैकड़ो अधिवक्ताओं की भीड़ बनारस बार के सभागार में इकठ्ठा होकर जुलूस की शक्ल में गेट नंबर तीन पर पहुंची। वहां से जिला जज की पोर्टिको में पहुंचकर सभा की। जुलूस का नेतृत्व बनारस बार के पूर्व महामंत्री नित्यानंद राय कर रहे थे।

उन्होंने 24 घंटे के अंदर हमालवरों की गिरफ्तारी, परिजनों को पचास लाख रुपए की आर्थिक मदद और एक सदस्य को तत्काल नौकरी देने की मांग की है। उनके साथ विनोद शुक्ला, प्रशांत मिश्रा, सुजीत यादव, अखिलेश यादव, राजकुमार तिवारी, अजय बरनवाल सहित कई अधिवक्ता थे।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वकील के परिजनों को 20 लाख की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। साथ ही अधिकारियों को 24 घंटे के अंदर कार्रवाई कर अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करने के आदेश दिए हैं।

बता दें कि इलाहाबाद के कर्नलगंज थाना क्षेत्र में वकील की हत्या के बाद हालात बिगड़ गए। वकीलों ने शव सड़क पर रखकर जाम लगा दिया। इतना ही नहीं कई क्षेत्रों में आगजनी की घटनाओं को भी अंजाम दिया गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रशासन ने भारी पुलिस फोर्स मौके पर तैनात कर दिया है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

इलाहाबाद में दिनदहाड़े हुई वकील की हत्या पर उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि अपराधी चाहे कितना भी प्रभावशाली क्यों न हों, जल्द से जल्द पकड़े जाएंगे। सरकार ने इस हत्याकांड को गंभीरता से लिया है।  दिनेश शर्मा ने कहा कि इलाहाबाद में अधिवक्ता की हत्या जघन्य अपराध और दुखद है। पुलिस प्रशासन को कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। अपराधियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।  उप मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसी दुखद घटनाओं का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए। वो गुरुवार को फिरोजाबाद में आंधी-तूफान पीड़ितों को मुआवजा राशि बांटने आए थे।