BREAKING NEWS
Search
Manoj Tiwari

मनोज तिवारी के विवादित बोल: राहुल के फ़टे कुर्ते की तरह दिखाई दे रही अमेठी

295

मीनाक्षी मिश्रा,

दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने अमेठी में जनसभा को संबोधित करते हुए के राहुल , अखिलेश पर जमकर निशाना साधते हुए अमेठी की बदहाली पर तगड़ा कटाक्ष किया। उन्होंने समाजवादी सरकार को एक परिवार की सरकार बताया। साथ ही उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान ही दिखाई पड़ने वाली कांग्रेस युवराज की बहन प्रियंका पर भी जमकर निशाना साधा। साथ ही बीजेपी प्रत्यासी को वोट देने की अपील की।


मनोज तिवारी के बोल:

मनोज तिवारी ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि एक तरफ समाजवादी पार्टी का परिवार है जहाँ पर 22 लोग समाजवादी टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि अगर आपको उत्तर प्रदेश में टिकट चाहिये तो भगवान से प्रार्थना कीजिये कि मुझे अखिलेश के घर में पैदा करो। साथ ही भगवान से प्रार्थना कीजिये कि आपकी बेटी की शादी अखिलेश के घर में हो जाये तब भी आपको टिकट मिल जायेगा।

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष व भोजपुरी गायक मनोज तिवारी ने अमेठी की बदहाली पर तंज कसते हुए राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा। राहुल गांधी को आड़े हाँथो लेते हुए उन्होंने विवादित बयान दिया। उनके अनुसार अमेठी की बदहाली राहुल गांधी के फ़टे कुर्ते की तरह दिखाई दे रही है।

मनोज तिवारी ने राहुल , अखिलेश के साथ साथ अपने भाई के लिये प्रचार के दौरान ही दिखाई पड़ने वाली प्रियंका गांधी को भी नहीं बख्शा। उन्होंने जनसभा को संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी पर अपने ही अंदाज में कटाक्ष किया। उन्होंने बॉलीवुड के गाने (बेबी को बेस पसंद है) के आधार पर अखिलेश व राहुल गांधी के चुनावी गठबंधन को लेकर बनाये गए गीत का मखौल उड़ाते हुए कहा कि बेबी को बेस पसंद है तो यह बेबी कौन है?

उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी व कांग्रेस एक साथ मिलकर गाना गा रहे हैं कि बेबी को बेस पसंद है और यूपी को अखिलेश पसंद हैं। उन्होंने सवाल करते हुए मजाक बनाया कि मै प्रियंका गांधी से पूछना चाहता हूँ इस गाने की बेबी कौन है। उन्होंने कहा कि प्रियंका जी आप इसका जवाब दीजिये क्योंकि राहुल और अखिलेश से इसकी अपेक्षा नहीं की जा सकती।

उन्होंने बहुचर्चित व शर्मनाक गैंगरेप के वारदात की याद दिलाते हुए कहा कि यह बेबी वही है क्या जिसको हाईवे से उठाकर अंदर ले जाकर उसका गैंगरेप कर दिया जाता है। उसी बेबी की बात कर रहे हो क्या?

देखना बाकी है कि मनोज तिवारी द्वारा किये गए इस तरह के कटाक्षों को जनता किस प्रकार से लेती है। क्या इससे फैसला बीजेपी के हक़ में जाता है। या जनता का नजरिया कुछ और होता है।