आतिशबाज़ी

जब पुलिस नें पूछा पत्रकार से– ‘क्या आपकी शादी हो गई?’

314

बोर्ड परीक्षा के दिनों में डीजे बजनें की हमारी खबर पढ़कर एसपी पीआरओ नें दी हैरतअंगेज़ प्रतिक्रिया…

Rahul Yadav

राहुल यादव

 

 

 

 

 

रायबरेली: जिले के एसपी साहब के पीआरओ को इस पत्रकार की शादी की काफी फ़िक्र है, सिर्फ पत्रकार ही नही उसके भविष्य में होने वाले बच्चों की शादी में क्या हो और क्या न हो इसकी चिंता भी पीआरओ नें व्यक्त की है। दरअसल एक खबर के जवाब में एसपी पीआरओ नें इस पत्रकार से जब यह पूछा कि ‘क्या आपकी शादी हो गई?’ तो पहले से ही जेनेटिकली हल्के बालों वाला यह स्थानीय पत्रकार खुद अपनें हाथों से अपने बाल नोचने लगा।

राजमार्ग के बीचोबीच बारातियों की आतिशबाज़ी… बीच से गुजरती गाड़ियां…

वजह है उसकी कल प्रकाशित हुई वो खबर जिसमें उसनें रायबरेली प्रशासन के सामने यह सवाल उठाया था कि जब यूपी बोर्ड की परिक्षाएं चल रही हैं और दूसरी कंपीटीटिव एग्ज़ाम सर पर हैं तो ऐसे समय में शादी-बारात में डीजे-बैण्ड बाजे की अनुमति देकर क्या परिक्षार्थियों के लिए प्रशासन मुश्किलें नही खडा कर रहा है।

रायबरेली-लखनऊ राजमार्ग पर आतिशबाज़ी के बीच से गुजरती गाड़ियां, बस एक चिंगारी और भीषण दुर्घटना…

इलाहाबाद-लखनऊ नेशनल हाईवे से गुजरती बारात पूरे राजमार्ग को बाधित करती है। सड़क पर होने वाली आतिशबाज़ी के बीच से वाहन गुजरते हैं ऐसे में किसी वाहन नें यदि आग पकड़ लिया तो किसी की खुशियां दूसरों के लिये मातम बनने में देर नही लगेगीं। लेकिन रायबरेली प्रशासन को इसकी कतई फिक्र नही है।

क्या यह खतरनाक नही?

रात की बारात में डीजे के कर्कश साऊंड और आतिशबाज़ी की धूम-धड़ाके से बोर्ड परीक्षा की तैयारी में लगें छात्र-छात्राएं परेशान हैं। जब उनके पढ़नें का समय होता है तो अपनी खुशियों में डूबे बाराती पढ़ाई कर रहे स्टुडेंट्स की सालभर की जी तोड़ मेहनत पर डाका डालने का काम कर रहे होते हैं। उन्हे ‘आज मेरे यार की शादी है’ से बढ़कर और कुछ सूझता ही नही, उन्हे एहसास नही कि जिसके मकान के नीचे डीजे की हिलाकर रख देने वाली म्युज़िक पर वह इधर-उधर हाथ पैर मारकर डांस जैसा कुछ कर रहे हैं उस मकान में अपनें कमरे में बैठा बच्चा अपनें भविष्य के लिये,  अपनें मां-बाप के हजार सपनों के लिये किताबो और फार्मूला से जूझ रहा होता है। लेकिन हम क्यो चिंता करे क्योकि ‘आज मेरे यार की शादी है’ न?

आपकी खुशियां कहीं दूसरों के लिये मातम न बन जायें…

स्टुडेंट्स की इसी परेशानी से जब हमनें रायबरेली प्रशासन को खबर के माध्यम से अवगत करानें की कोशिश की तो एसपी साहब के पीआरओ नें ऐसा जवाब दिया कि हम सब हैरत में पड़ गये। इतना गैर जिम्मेदाराना जवाब शायद ही कभी हमनें किसी अधिकारी से सुना हो।

Conversation between Journalist and Rae Bareli SP via WhatsApp…

खबर के जवाब में पीआरओ नें पत्रकार से कहा कि ‘यदि आपकी शादी नही हुई है तो शपथ लें कि आप अपनी शादी में डीजे और बैण्ड का इस्तमाल नही करेगें और यदि शादी हो गई है तो आप अपनें बच्चों की शादी में बैण्ड न बजवानें की शपथ लें।’

पीआरओ के जवाब का मतलब यह है कि यदि आपकी कल शादी होगी तो आप भी बैण्ड और डीजे बजवायेगें ही, उस दिन आपकी उन स्टुडेंट्स की सारी चिंता काफुर हो जाएगी जो परीक्षा की तैयारी में लगे हैं। हम मानते है शायद ऐसा हो भी।

लेकिन ऐसा न हो इसी के लिये आपको पॉवर दिया गया है। कल यदि यह पत्रकार भी परीक्षा के समय बैण्ड बजवाता है तो इसे भी आप रोकें और जो आज बजवा रहें हैं उसे भी आपको रोकना ही चाहिए। क्योकि ‘आज मेरे यार की शादी है’ की खुमारी में मचने वाले धमाल की एक रात की खुशियों से परीक्षा में कम अंक पाकर जीवन में पिछड़ जानें का दुख कहीं ज्यादा होता है।