Deoria khanan mafia

पुलिस के संरक्षण में, राप्ती को लूट रहे खनन माफिया

460

– पुलिस वसूल रही 3 से 5 हजार प्रतिदिन के हिसाब से रक़म…

– थाने में लगे सीसीटीवी कैमरे बेनक़ाब हो सकती है पुलिस…

– पुलिस और खनन माफ़ियाओं के गठजोड़ से चल रहा है खेल…

Priyesh Kumar "Prince"

प्रियेश कुमार प्रिंस

देवरिया, उत्तर प्रदेश। जनपद देवरिया के रुद्रपुर में राप्ती नदी के तटबंधों के बीच अबैध रूप से मिट्टी और बालू का खनन बदस्तुर जारी है। राप्ती नदी के किनारे बने कछार क्षेत्र के तटबन्ध केवटलिया और पटवनिया में कुछ क्षेत्रीय खनन माफिया जबरियन कब्जा जमाकर दिन रात खनन का काम कर रहे है। खनन माफ़ियाओं के हौसले इस लिए भी बुलन्द है कि इन्हें स्थानीय थाना मदनपुर पुलिस का संरक्षण प्राप्त है। इस लिए खनन माफिया कानून के बिना डर भय के साथ अबैध खनन कर चांदी काट रहे है और थाना मदनपुर की पुलिस इन्हें खनन का काम सौप खुद भी मोटी कमाई कर रही है।

ठण्ड के इस मौसम में कोहरे और सन्नाटे का फायदा उठाते हुए खनन माफिया बेधड़क राप्ती क्षेत्र के अंदर खनन कर रहे है जो कही से भी पर्यावरण और इको सिस्टम के लिहाज से सही नही है क्यो कि क्षेत्र के गाँवो को हर साल प्रलयंकारी बाढ़ का डंस झेलना पड़ता है। इस लिहाज से खनन माफिया अबैध तरीके से राप्ती के तलहटी और तटबन्धों को खोखला कर रहे है और स्थानीय पुलिस सब कुछ होने दे रही है।

– स्थानीय पुलिस दे रही है खनन को बढ़ावा…

स्थानीय लोगो का कहना है कि मदनपुर पुलिस और माफ़ियाओं के गठजोड़ से ही अबैध खनन का काम कई महीनों से चल रहा है। स्थानीय पुलिस का संरक्षक मिला हुआ है खनन करने वालो को। वरना दिन और रात इतने बड़े पैमाने पर पुलिस के जानकारी के बावजूद खनन कैसे संभव है। जरूर खाकी और माफ़ियाओं की मिलीभगत से ही खनन का काम चल रहा है।

– आख़िर पुलिस पर क्यो लग रहे है आरोप…

बताते चले कि स्थानीय मदनपुर पुलिस ने खनन माफियाओं के लिए प्रत्येक दिन के हिसाब से एक रकम निर्धारित है जो 3 से 5 हजार तक पुलिस द्वारा वसूल किया जाता है। साथ ही साथ खनन करने वालो से यह भी तय है कि मिट्टी और बालू की हर गाड़ी की पहली खेप थाने के अंदर गिरेगी। अगर थाना कैम्पस की बखूबी निगरानी की जाए तो बालू और मिट्टी मौके पर दिख जाएगी।

– क्या कहते है गाड़ी चालक…

अबैध रूप से बालू और मिट्टी की ट्राली ट्रैक्टर से ढुलाई करने वाले गाड़ी चालको ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि दिन भर में एक खेप मिट्टी और बालू थाने में गिराना होता है और बाकी समय हम निर्धारित जगह पर गिराते है। अगर जिले का कोई बड़ा अधिकारी थाने पर दौरा करने आता है तब खनन का काम पुलिस खुद फोन से सूचना देकर रुकवा देती है और अधिकारी के जाने के बाद फिर शुरू हो जाता है।

– खनन का राज़ खोलेगा कैमरा…

थाने में आने जाने वालों की गतिविधियों की निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है। अगर थाने में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को सिलसिले वार देखा जाए तो संलिप्त लोग बेनक़ाब हो सकते है और खनन माफियाओं की जो गाड़िया थाने में मिट्टी और बालू गिरा रही है की पहचान की जा सकती है।

– आनन फानन पुलिस ने ज़ब्त मिट्टी लोडर गाड़ी छोड़ी…

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार थाना मदनपुर पुलिस द्वारा शनिवार की शाम पकड़ी बाजार क्षेत्र में अबैध खनन कर रहे मिट्टी लोडर गाड़ी को मौके से पकड़ कर थाने में ज़ब्त किया और रात होते ही मोटी रक़म वसूल कर छोड़ दिया गया। बताया जा रहा है कि उक्त गाड़ी किसी समाजवादी नेता की थी जिसे पुलिस ने धनउगाही के बाद छोड़ दिया।

– उपजिलाधिकारी खनन माफ़ियाओं पर कसेंगे नकेल…

राप्ती नदी के केवटलिया और पटवनिया के तलहटी और तटबन्धों के बीच हो रहे खनन के संबंध में उपजिलाधिकारी रुद्रपुर राम विलास राम का कहना है कि मामला अभी सज्ञान में नही था।जानकारी मिल गई है तो संलिप्त खनन माफियाओं और पुलिस पर सख्ती से कार्यवाही करते हुए अबैध खनन पर नकेल कसा जाएगा। मामला गंभीर है, जांच जरूर होगी।