BREAKING NEWS
Search
हैंडपंप

हैंडपंप के लिए कार्यालयों के चक्कर काट रही महिला से विधायक प्रतिनिधि ने मांगा 5 हजार

278

महिला का आरोप धन की मांग होने पर वह कलेक्ट्रेट परिसर में धरने पर बैठ गई लेकिन पुलिस ने उसे वहां से जबरन हटाया…

Aslam Ali

असलम अली

 

 

 

 

 

 

मिर्जापुर: पहाड़ी क्षेत्र के अठपेड़ छटवा की महिला मीरा देवी ने हैंडपंप लगवाने के लिए मझवां विधायक के प्रतिनिधि पर पांच हजार रुपये मांगने का आरोप लगाया है। महिला का यह भी आरोप है कि वे इसके विरोध में कलेक्ट्रेट परिसर में अनशन पर बैठी थी। इसी दौरान गुरुवार की दोपहर कोतवाली पुलिस उसे जबरन वाहन पर बैठा कर ले गई। मझवां विधायक सुचिस्मिता मौर्या और इंस्पेक्टर कोतवाली भुवनेश्वर पांडेय ने महिला के आरोपों को निराधार बताया है।

विकास खंड क्षेत्र पहाड़ी के अठपेड़ा छटवा गांव रहने वाली मीरा देवी पत्नी ओमकार नाथ पाठक (दिवंगत) पेयजल संकट के चलते अधिकारियों को प्रार्थना पत्र देकर हैंडपंप लगवाने की मांग की थी। तहसील दिवस में प्रार्थना पत्र भी दिया था। जिसमें जल निगम के अधिशासी अभियंता ने उसे बताया था कि विधायक निधि से सौ हैंडपंप आते हैं। अगर वह विधायक से मिलकर सूची में नाम डलवा दे तो हैंडपंप लग जाएगा।

मीरा देवी का आरोप है कि वह चार बार मझवां विधायक के पुरानी अंजही स्थित आवास पर गई जहां कार्यकर्ताओं ने उसे विधायक से मिलने नहीं दिया। 23 मई को जब वह विधायक आवास पर गई तो वहां उनके प्रतिनिधि ने हैंडपंप लगाने के लिए पांच हजार रुपये देने की मांग की। आरोप लगाया कि पैसे देने में असमर्थता जताई तो उन्होंने भगा दिया। इससे क्षुब्ध होकर वह गुरुवार को कलेक्ट्रेट परिसर में अनशन पर बैठ गई। आरोप है कि वह अनशन पर बैठी थी कि वहां पहुुंची शहर कोतवाली पुलिस उसे अनशन से उठाने लगी। नहीं उठने पर जबरन हाथ पकड़कर घसीटते हुए अपने वाहन में बैठाकर उठा ले गई।

मझवां विधायक सुचिस्मिता मौर्या ने कहा कि महिला की ओर से लगाए गए आरोप निराधार हैं। महिला उनके आवास पर नहीं आई थी। महिला ने तहसील दिवस में प्रार्थना पत्र देकर हैंडपंप लगवाने की मांग की है। दो सौ हैंडपंप आए हैं। 272 की सूची भेजी गई। वर्तमान समय में सारे हैंडपंपों की सूची जा चुकी है। अगली बार आने पर पीड़ित महिला को हैंडपंप दे दिया जाएगा।

शहर कोतवाल भुवनेश्वर पांडेय ने कहा कि कलेक्ट्रेट परिसर से महिला को बुलाकर मझवां विधायक के आवास पर पर ले जाया गया था जहां उन्होंने कोटे के हैंडपंप लगवाने का आश्वासन दिया है। जहां तक महिला को जबरन उठाने की बात है तो ऐसा कुछ नहीं किया गया है।