BREAKING NEWS
Search
Gwalior

छात्रसंघ के चुनाव मे 6 में से 5 कॉलेज में एबीवीपी का कब्जा, संघ के गढ़ में हारी एबीवीपी

445
Sarvesh Tyagi

सर्वेश त्यागी

ग्वालियर। जीवाजी विश्वविद्यालय सहित शहर के अधिकतर सरकारी व अनुदानित कॉलेजों में छात्रसंघ के चुनावा में एबीवीपी के उम्मीदवारों को जीत मिली हैं। लेकिन आरएसएस संघ के गढ़ माधव कॉलेज में एनएसयूआई ने कब्जा किया।

छात्रसंघ चुनावा के लिये सोमवार की सुबह से कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतदान शुरू हो गया। दिन भर की गहमागहमी के बीच ग्वालियर क 17 कॉलेजों में मतदान छिटपुट झड़पों के अलावा कमोवेश शांति से सम्पन्न हुआ। जिला प्रशासन ने इसके लिये धारा 144 लगाकर हालातों को काबू में रखा।

प्रदेश के 5 विश्वविद्यालय मे एव्हीबीपी का कब्जा

प्रदेश के 6 विश्वविद्यालयों के साथ ही सरकारी और अनुदान प्राप्त निजी कॉलेजों में सोमवार को छात्रसंघ के चुनाव हुए, प्रदेश भर में एबीवीपी ने एक तरफा जीत का दावा किया है। एव्हीबीपी ने 6 में से 5 विवि और 533 कॉलेजों में से लगभग 84 प्रतिशत में चारों पदों पर जीत बताई  है। उधर, एनएसयूआई ने इस  छात्रसंघ चुनाव को शासन बनाम एनएसयूआई बताया है। एनएसयूआई के प्रदेश प्रवक्ता विवेक त्रिपाठी ने कहा है कि अधिक संख्या में कक्षा प्रतिनिधि होने के बावजूद पदाधिकारियों की संख्या संगठन के पक्ष में नहीं हुई है। इसमें कही न कहीं गड़बड़ी की आशंका है।

ग्वालियर के दो कॉलेजों चुनाव निरस्त, उच्च शिक्षामंत्री पवैया का पुतलादहन

6 वर्षो में हुए छात्रसंघ के चुनाव में जीवाजी विश्वविद्यालय सहित अंचल के अधिकतर कॉलेजों में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के उम्मीदवारों का कब्जा रहा है। ग्वालियर के मानसिंह कॉलेज और भगवत सहाय कॉलेज में विवाद के चलते हुए चुनावों को स्थगित और देर रात निरस्त करने के आदेश जारी कर दिये गये है। उधर, एनएसयूआई और  कांग्रेसियों ने उच्चशिक्षा मंत्री जयभानसिंह पवैया का पुतलादहन किया है, मानसिंह कॉलेज पर पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया।

इन कॉलेजो में एबीवीपी के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, सहसचिव पर  विजयी हुए। जीवाजी यूनिवर्सिटी, केआरजी कॉलेज, साइंस कॉलेज, एसएलपी कॉलेज, संस्कृत कॉलेज, एमएलबी कॉलेज, पीजीव्ही कॉलेज, व्हीआरजी कॉलेज, नवीन गर्ल्स कॉलेज, भितरवार कॉलेज, मोहना कॉलेज इन कॉलेजो में एव्हीबीपी के पैनलों ने एनएसयूआई के पेनलों को हरात हुए परचम लहराया।

ऑरिजनल दस्तावेजो से छात्रों ने किया मतदान 

कक्षा प्रतिनिधियों और पदाधिकारियों के मतदान के लिए मतदान पत्र कम्प्यूटर से तैयार किए गए थे। मतदाता को मतदान पत्र पर पेन से सही का निशान लगाना जरूरी था। सीआर के चुनाव के लिए उम्मीदवारों और छात्रों तथा शनिवार को हुई प्रक्रिया में जिन कक्षाओं में मेरिट या निर्विरोध रूप से सीआर चुने गए हैं उन्हें ही कॉलेज में प्रवेश दिया गया। इसके अलावा मतदाता को अपने ऑरिजनल शैक्षणिक दस्तावेज साथ ही प्रवेश दिया गया। कॉलेज प्रबंधन ने पहचान पत्र जारी किए उनके बगैर वोट नहीं डालने दिया गया।

जीवाजी विश्वविद्यालय में छात्रसंघ के चुनाव 

जीवाजी विश्वविद्यालय में छात्रसंघ के चुनाव में मुख्य निर्वाचन अधिकारी केशवसिंह गुर्जर और डॉ. शातिदेव सिसोदिया की देखरेख और पुलिस की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में संपन्न होने के बाद कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला ने विजयी पदाधिकारियों को शपथग्रहण कराई और कहा कि विश्वविद्यालय में अनुशासन बनाये रखे।

एनएसयूआई को छात्रसंघ के चुनाव हारने के लिए बीजेपी ने सत्ता का दुरुपयोग किया है। उच्च शिक्षा मंत्री के विस् ने स्तिथ महाराजा मानसिंह और भगवत सहाय कॉलेज में एबीवीपी हार रही थी इसलिए चुनाव स्थगित कर दिए।

जीतू राजौरिया, जिलाध्यक्ष एनएसयूआई ग्वालियर

एबीवीपी पूरे साल छात्रहित के मुद्दे उठाती है। इसी के चलते एबीवीपी के पैनल जेयू सहित 10 कॉलेजों में चुनाव जीता। जिन दो कॉलेजों चुनाव निरस्त किये गए वहाँ एनएसयूआई के सीआर ने जबरदस्ती वोट डलवाये।

डॉ निवेश शर्मा, विभाग प्रमुख, एबीवीपी ग्वालियर

महाराजा मानसिंह व डॉ भगवत सहाय कॉलेज में चुनाव में गडवड़ी कई शिकायत के चलते उच्च शिक्षा विभाग ने सम्पूर्ण चुनाव निरस्त कर दिया है। शासन के निर्देश के बाद अब यहां नए सिरे से चुनाव होंगे।

डॉ एके शर्मा, ओसडी, अतरिक्त संचालक कार्यालय