Dirty

नगर के शौचालय केंद्र खोल रहे हैं नगरपालिका के सफाई की पोल

113
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी- नगर पालिका द्वारा शहर के बाजार क्षेत्र में व्यापारियों एवं राहगीरों की सुविधा की दृष्टि से करीब दो दर्जन से अधिक स्वच्छता गृह (मूत्रालय) तो बनवा दिए गए हैं, लेकिन इनकी नियमित साफ-सफाई नहीं करवाई जाती. 

स्वच्छता ग्रहों (मूत्रालय) की नियमित साफ-सफाई न होना व्यापारियों व राहगीरों के लिए मुसीबत का सा बना हुआ है. गंदगी व सड़ांध से स्वच्छता गृहों के आस-पास से निकलना मुश्किल रहता है. स्थानीय व्यापारियों द्वारा इनकी सफाई हेतु अक्सर नपा के जिम्मेदार अधिकारियों के पास शिकायत भी की जाती है, लेकिन अधिकारियों द्वारा इनकी शिकायतों को तवज्जो नहीं दिया जा रहा है.

आपको बताते चलें कि नगर पालिका परिषद सीधी द्वारा शहर में व्यापारियों व राहगीरों की सुविधा की दृष्टि से सोनांचल बस स्टैंड, गांधी चौक, आजाद नगर, संजीवनी पालिका बाजार, स्टेट बैंक मार्ग, कलेक्ट्रेट कैंपस, कोतवाली मार्ग सहित करीब दो दर्जन स्वच्छता गृहों का निर्माण कराया गया है.

इन लोगों द्वारा भरपूर उपयोग भी किया जा रहा है. लेकिन, इनकी नियमित सफाई न होनेे से अब लोग इनका उपयोग करने में कतराने भी लगे हैं. क्योंकि वहां दुर्गंध के कारण खड़े रहना मुश्किल हो जाता है. इन स्वच्छता केंद्रों के पास दुकान संचालित करने वाले व्यापारियों का हाल तो यह है कि उन्हे दिन भर अगरबत्ती व अन्य सुगंध वाली सामग्रियों का दिन भर उपयोग करना पड़ता है.

संक्रामक बीमारियों का खतरा- 

स्वच्छता ग्रहों (मूत्रालय) की नियमित सफाई न होने से यहां से निकलने वाली दुर्गंध से संक्रामक बीमारियों के फैलने का खतरा बना हुआ है. क्योंकि स्वच्छता गृहों की दुर्गंध उस पूरे परिषर में व्याप्त रहती है. इसके बावजूद नपा के जिम्मेदार अधिकारी इस मामले को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं.