मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट मिल सकता है कांग्रेस नेता संजीव सिंह को!

572
Hariom Kumar

हरिओम कुमार

मुजफ्फरपुर। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बिहार में महागठबंधन के घटक दलों के बीच सीट बंटवारे को लेकर घमासान जारी है। सीट बंटवारे को लेकर बिहार की जनता की निगाहें पहले एनडीए पर थी यानी भाजपा जदयू और लोजपा पर थी, लेकिन सीट बंटवारे को लेकर एनडीए में सहमति बनने के बाद अब सबकी निगाहें महागठबंधन पर है।

दरअसल, देखा जाए तो महागठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर मुख्य रूप से निर्णायक भूमिका में लालू यादव को ही माना जा रहा है, यानी महागठबंधन में कौन सी सीट किस दल को दी जाए और कौन से दावेदार को दी जाए। इन सब बातों पर लालू यादव की सहमति से ही सब कुछ होना तय है।

महागठबंधन में नेतृत्व पार्टी आरजेडी है, तो सबसे बड़ी राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस है। कांग्रेस की बात करें तो मध्य प्रदेश राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजों से ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस की जो बीजेपी के खिलाफ चुनावी मुहिम है वह सफल हुई, परिणाम स्वरूप कांग्रेस एक बार फिर से सत्ता की ओर आना चाह रही है, इसलिए कांग्रेस इस बार महागठबंधन में 15 सीट की दावेदारी कर रहा है।

आपको बता दूं कि 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस बिहार में कुल 12 सीटों पर चुनाव लड़ी थी, इसबार 12 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी है। कांग्रेस द्वारा मांगी जा रही सीटों में मुजफ्फरपुर लोकसभा की सीट भी है। वर्तमान में यह सीट बीजेपी के पास है, यहां से अजय निषाद बीजेपी के सांसद हैं।

वहीं महागठबंधन में यह सीट कांग्रेस मांग रही है। कांग्रेस की ओर से मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट पर इंजीनियर संजीव सिंह दावेदारी कर रहे हैं। इंजीनियर संजीव सिंह को कांग्रेस के युवा कोटा से सीट दिया जा सकता है, संजीव सिंह वर्तमान में बिहार कांग्रेस के महासचिव है। साथ ही कांग्रेस आईटी सेल के हेड है, एआईसीसी के सदस्य भी है।

सूत्रों की मानें तो इंजीनियर संजीव सिंह कांग्रेस में सक्रिय नेता के रूप में देखे जाते हैं, बिहार के बाहर भी संजीव सिंह की पकड़ कांग्रेस के बड़े नेताओं तक है।

Congress Politician Sanjeev Singh

Janmanchnews.com

वहीं मुजफ्फरपुर लोकसभा क्षेत्र में संजीव सिंह अभी से ही चुनावी अभियान शुरू कर चुके हैं। संजीव सिंह समर्थकों की भी इच्छा है कि संजीव सिंह इस बार लोकसभा चुनाव लड़ें।

“जनमंच न्यूज को संजीव सिंह ने बताया कि मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट पर कांग्रेस की ओर से उनका का नाम लगभग तय हो चुका है, और वे चुनावी तैयारी शुरू कर चुके हैं।”

आपको बता दूं कि मुजफ्फरपुर लोकसभा क्षेत्र अंतर्गत ही मुजफ्फरपुर बालिका आश्रय गृह कांड हुआ था, जो पूरे देश को झकझोर दिया था। अभी यह लोकसभा सीट बीजेपी के पास है, यानी इस बार का चुनाव बड़ा दिलचस्प होगा की जनता किसके साथ है।