National Green Tribunal

चुनाव में पेपर की बर्बादी करने पर लगेगें पांच हजार के जुर्माना: NGT

95
Sanjeev Dubey

संजीव दुबे

नई दिल्ली। यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन (डूसू) चुनाव में पेपर की बर्बादी को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने दिल्ली यूनिवर्सिटी को फटकार लगाई है।

पेश मामले में याचिकाकर्ता वकील पीयूष सिंह के अनुसार, 2016 में एनजीटी ने डूसू को पेपरलेस चुनाव कराने का निर्देश दिया था। 2006 में लिंगदोह कमेटी व 2016 एनजीटी के ऑर्डर में पेपर की बर्बादी पर साफ रोक लगाई गई है। जिसका पालन नहीं किया जा रहा है। ऐसे में डीयू प्रशासन पर अवमानना की कार्रवाई की जाए।

ये भी पढ़ें…

भूख से तड़प-तड़प कर मर गयी गौशाला की 35 गायें, प्रशासन को भनक तक नहीं

एक याचिका पर सुनवाई करते हुए एनजीटी के चेयरमैन स्वतंत्र कुमार की बेंच ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी), दिल्ली यूनिवर्सिटी, डूसू, डीयू के चीफ इलेक्शन ऑफिसर व दिल्ली सरकार को 24 घंटे के भीतर पोस्टर, बैनर हटाने का आदेश दिया है।

National Green Tribunal

File Photo: National Green Tribunal

एनजीटी ने नियम की अनदेखी करने वाले प्रत्याशियों का नामांकन रद्द करने और पर्यावरण शुल्क के तौर पर पांच हजार रुपये जुर्माना लगाने का भी निर्देश दिया।

ये भी पढ़ें…

चोटी कटवा के बाद अब पुरुषों में लिंग कटने की भय हो रहा व्याप्त!

एनजीटी ने सभी से एक सप्ताह के भीतर इस सबंध में अपनी स्टेटेस रिपोर्ट दायर करने को भी कहा है। मामले की अगली सुनवाई 18
सितंबर को होगी।