BREAKING NEWS
Search
Ryan International School

गुरूग्राम स्कूल में 7 वर्षीय छात्र की हत्या का मामला: सुप्रीम कोर्ट नें सभी निजी स्कूलों में सुरक्षा उपायों को लिया संज्ञान में

548

विशेष: सुप्रीम कोर्ट नें एक याचिका पर विचार करते हुए केंद्र और हरियाणा सरकार को एक नोटिस जारी कर कहा कि हत्या की जांच सीबीआई या एसआईटी से करायें….

वकीलों के एक बैच ने सर्वोच्च न्यायालय से कहा कि निजी स्कूल छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए किसी दिशा-निर्देश पर काम नहीं कर रहे….

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

नई दिल्ली: सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को केंद्र और हरियाणा सरकार को एक याचिका पर सुनवाई करते हुए नोटिस जारी कर दिया कि सात वर्षीय प्रत्द्यूम की शुक्रवार को गुरूग्राम के रायन इंटरनेशनल स्कूल के वॉशरूम में गला काटकर हुयी हत्या की जांच सीबीआई और या एसआईटी ही करे। इस आदेश के बावजूद सुप्रीम कोर्ट नें निजी स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के लिए किये गये उपायों को संज्ञान में लेते हुए उसकी जांच करनें का खुद फैसला किया है।

शुक्रवार को रयान इंटरनेशनल स्कूल की गुरुग्राम शाखा में प्रत्द्यूम ठाकुर की हत्या के बाद, वकीलों के एक बैच ने सर्वोच्च न्यायालय से कहा कि निजी स्कूल छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए किसी दिशा-निर्देश पर कार्य नहीं कर रहे हैं। वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट से अपील की कि सुओ मोटो के आधार पर कोर्ट स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा व्यवस्था के मामले को स्वंय संज्ञान मे ले।

 Pradhyumn Thakur

File Photo: Victim 7 Years Old Pradhyumn Thakur

शीर्ष अदालत ने सोमवार को कहा है कि वह सभी निजी स्कूलों में सुरक्षा उपायों के मुद्दे पर विचार करेगी और विशेष रूप से रयान इंटरनेशनल स्कूल के मामले तक ही खुद को सीमित नहीं करेगी।

इससे पहले, 7 वर्षीय क्लास 2 के छात्र प्रत्द्यूम के पिता वरुण ठाकुर ने शीर्ष अदालत में याचिका दायर कर अपने बेटे की रायन इंटरनेशनल स्कूल में हुई खौफनाक हत्या की जांच सीबीआई/एसआईटी से कराने की अपील की थी। बता दें प्रत्द्यूम की हत्या करने के अपराध को स्कूल की बस में काम करने वाले कंडक्टर ने कथित तौर पर कबूल कर लिया था, जिसे मृतक बच्चे के परिवार वालों के साथ-साथ आम जनमानस भी संदेह की दृष्टि से देख रहे हैं, उन्हे लगता है बस कंडक्टर को बलि का बकरा बनाया जा रहा है और हत्या का जिम्मेदार स्कूल प्रशासन में से कोई है।

इस मामले में रविवार को देर रात, हरियाणा पुलिस नें जनता द्वारा किये जा रहे धरना-प्रदर्शन और प्रशासन पर निश्क्रियता के लगते आरोप के मद्देनजर रयान इंटरनेशनल स्कूल की गुरुग्राम शाखा के दो वरिष्ठ अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया। उधर स्कूल के सीईओ रयान पिंटो और उनके माता-पिता ने सोमवार को मुंबई उच्च न्यायालय में अग्रिम जमानत याचिका दायर की है।

गुरूग्राम पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “फ्रांसिस थॉमस, रीजनल हेड और जे. थॉमस, मानव संसाधन प्रमुख (एच.आर हेड) को जेजे अधिनियम के तहत देर रात गिरफ्तार कर लिया गया है।” इसके अतिरिक्त क्षेत्र के पुलिस थाने को “कानून और व्यवस्था बनाए रखने में लापरवाही” के लिए निलंबित भी किया गया है।

गुरूग्राम के पुलिस आयुक्त ने कहा, “एसएचओ, सदर पुलिस स्टेशन, सोहना रोड, को अंतिम (रविवार) रात को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया।” उन्होनें बताया कि रविवार को पुलिस नें गुरुद्वार में रयान इंटरनेशनल स्कूल के बाहर हिंसा पर उतर आये प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए लाठीचार्ज किया।

Ryan International School, Gurugram, Haryana

File Photo: Wine Shop burnt by agitated mob and huge angry mob protesting outside Ryan International School, Gurugram, Haryana

गुरूग्राम पुलिस द्वारा की जा रही जांच पर असंतोष व्यक्त करनें के लिए स्कूल परिसर के बाहर गुस्साये माता पिता और स्थानीय लोग इकट्ठा हुए थे। उन्होंने हत्या की सीबीआई जांच की मांग की। “हम चल रही जांच से संतुष्ट नहीं हैं, बस कंडक्टर को मोहरे की तरह इस्तमाल किया जा रहा है। स्कूल प्रबंधन को छात्रों की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी लेनी होगी,” मृतक छात्र की मॉ नें मीडिया के समक्ष कहा।

इधर प्रत्द्यूम की हत्या के विरोध में प्रदर्शन कर रही भीड़ ने अचानक एक हिंसक मोड़ ले लिया, गुस्साई भीड़ नें स्कूल के करीब एक शराब की दुकान को आग लगा दिया। पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में लाने और प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज का सहारा लिया।

हरियाणा के शिक्षा मंत्री राम बिलास शर्मा ने मृतक छात्र के माता-पिता को विश्वास दिलाया कि स्कूल के अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी और आरोपी को जल्द ही न्याय के कटघरे में खड़ा किया जाएगा। मीडियाकर्मियों से बात करते हुए शर्मा नें कहा कि “जुवेनाइल अधिनियम की धारा 75 के तहत, स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। अभियुक्त एक सप्ताह के भीतर न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किए जाएंगे।” उन्होंने कहा कि “सरकार नें इस गंभीर अपराध की सीबीआई जांच के लिए दरवाजे खुले रखे हैं। यदि माता-पिता पुलिस जांच से असंतुष्ट हैं, तो हरियाणा सरकार सीबीआई जांच का आदेश देगी।”

सात वर्षीय प्रत्द्यूम की बॉडी बीते शुक्रवार को खून से लथपथ रायन इंटरनेशनल स्कूल के वॉशरूम में पायी गयी थी, बच्चे का गला बड़ी बेरहमी से रेत दिया गया था। शुक्रवार को ही देर शाम गुरूग्राम पुलिस नें स्कूल की एक बस के कंडक्टर अशोक कुमार को गिरफ़्तार कर लिया था, जिसनें पूछताछ में अपना गुनाह बड़ी आसानी से कबूल कर लिया था। पुलिस नें बताया था कि “कुमार वॉशरूम में बच्चे के साथ यौनाचार करने पर आमादा था लेकिन बच्चा अपने आपको छुटाने के लिए लगातार संघर्ष कर रहा था, जिससे कुमार नें एक चाकू से उसका गला काट दिया और मौके से फरार हो गया।

Ryan International School

File Photo: Inconsolable Mother of deceased student of class 2. Police Party in Ryan International School

कथित हत्यारे ने पुलिस को बताया कि वह स्कूल के शौचालय में पहले से जाकर छिप गया था, जहां पर वह किसी भी बच्चें के आने का इंतजार कर रहा था, उसका ईरादा बस दुष्कर्म करना था जो भी बच्चा वॉशरूम पहले आता वही उसका शिकार बनता, बदकिस्मती से वह पहला बच्चा सात वर्षीय प्रत्द्यूम था। कुमार ने यह भी बताया कि वह एक चाकू साथ ले गया था क्योंकि उसे पता था कि वह स्कूल से बाहर निकलेगा तो गार्ड उसे रोकेगा, जो उसे पहचानते थे। गार्ड से निपटने के लिए कुमार चाकू साथ ले गया था।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, “जैसे ही लड़के ने शौचालय में प्रवेश किया कुमार ने उसे पकड़ लिया, लेकिन लड़के ने पूरी ताकत से छूटने का प्रयास किया। जब अभियुक्त उसके साथ जबरदस्ती करने में नाकाम रहा तो उसने बच्चे का गला और दाहिना कान चाकू से रेत-रेत कर काट दिया”।

हालांकि, जल्द ही विरोधाभासी रिपोर्ट भी सामने आ गई, जिससे कंडक्टर का जुर्म कुबूल कर लेना संदेह के घेरे में आ गया। संदेह की स्थिति में यह माना जा रहा कि कंडक्टर को भारी भरकम रकम देकर हत्या की जिम्मेदारी खुद पर लेने के लिए तैयार किया गया है, जबकि असली कातिल और हत्या का कारण कुछ और ही है।