BREAKING NEWS
Search
cpi

बंद स्कूलों को खोलने को लेकर भाकपा माले ने किया विरोध प्रदर्शन

425
गिरिडीह। रघुव

Raghunandan Mehta

रघुनंदन कुमार मेहता

गिरिडीह। रघुवर सरकार गरीबों के लिए शिक्षा का अधिकार भी छीन लेना चाहती हैं। अभी रघुवर के शासन में जितने स्कूल बंद हुए हैं। उसमें से ज्यादातर गरीब और अभिवंचित वर्ग के ही बच्चे पढ़ते थे। स्कूलों को बंद करने के लिए सरकार ने खुद जो मानक तय किए थे। उन मानकों को भी पालन करने के बजाय मनमाने तरीके से कई स्कूल बंद कर दिए गया हैं।

पूर्व से चल रहे एक भी स्कूल को बंद किया जाना सरासर गलत हैं। भाकपा माले बंद किए गए सभी स्कूलों को पुनः खोलने, डिग्रेड किए गए सभी स्कूलों को फिर से अपग्रेड करने, सभी सरकारी स्कूलों में पर्याप्त संसाधन तथा शिक्षक बहाल करने, सरकारी शिक्षकों से किसी भी तरह के गैर शैक्षणिक कार्य पर रोक लगाने तथा पारा शिक्षकों की जायज मांगों को पूरा करते हुए समय पर उनके वेतन भुगतान की भी मांग करती हैं।

उपरोक्त बातें भाकपा माले के राज्य कमेटी सदस्य राजेश यादव ने गुरुवार को गिरिडीह जिले में बड़े पैमाने पर बंद किए गए उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालयों तथा अपग्रेडेड स्कूलों को डिग्रेड किए जाने खिलाफ जिला शिक्षा अधीक्षक कार्यालय का घेराव करने के दौरान कही।

श्री यादव ने स्कूलों को बंद करने को लेकर रघुवर सरकार के साथ-साथ गांडेय विधायक तथा कोडरमा सांसद पर भी हमला बोलते हुए कहा कि उन्होंने इस मुद्दे पर  कोई कारगर पहल करने के बजाय एक तरह से मौन सहमति दी। जिसका खामियाजा आज हजारों बच्चों को भुगतना पड़ रहा हैं। इसे क्षेत्र की जनता बर्दाश्त नहीं करेगी। 

माले के गुरुवार के कार्यक्रम में बड़ी तादाद में गांडेय विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत बेंगाबाद प्रखंड के चरकापत्थल, बासोकुरहा, एवं मंझलाटोल, गांडेय प्रखंड के कोल टोला गोविंदपुर, करमासिंघा एवं भलुआही तथा गिरिडीह प्रखंड के लखियोटांड़ एवं बंदरकुप्पी गांवों में बंद तथा डिग्रेड किए गए स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों तथा माले कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

वहीं, माले के राजधनवार  विधायक राजकुमार यादव ने भी आंदोलन में पहुंचे लोगों को आश्वस्त किया कि वे सरकार की इस नीति का विरोध करते है और आगामी सत्र में इस सवाल को विधानसभा में उठाने का काम करेंगे।

मौके पर माले नेता महताब अली मिर्जा, शाहनवाज खान पप्पू, संजय यादव, सलामत अंसारी, अजय कुमार दास, राजेंद्र मंडल, रामलाल मंडल, रामलाल मुर्मू, महेश वर्मा, राजू पासवान, रोहित यादव, सदानंद स्वर्णकार, कार्तिक वर्मा, मनोज वर्मा, छोटू दास, बालेश्वर दास, मनोज सिंह, भगन सिंह, सुखदेव गोस्वामी, बुंदो पुजहर, बंधु पुजहर, धनराज पंडित, संजय कुमार दास, संजय चौधरी, संतोष राय, इंजन हाजरा, गोंदो दास, महेंद्र कुमार दास, भीखम कॉल और शिवलाल कोल, लोबिन टुडु, सरफराज अंसारी, उत्तम राय, पूरन सिंह, महादेव चौधरी समेत अन्य मौजूद थे।