नहीं रहें बिहार के कद्दावर नेता रघुनाथ झा

353
Pankaj Pandey

पंकज पाण्डेय

पटना। 27 वर्ष तक शिवहर से विधायक रहे बिहार के क़द्दावर नेता रघुनाथ झा कल देर रात दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में निधन हो गया। 78 वर्षीय झा कुछ दिनों से बीमार थे और दिल्ली के इस अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था।

शिवहर के अम्बाकला निवासी रघुनाथ झा बिहार के राजनीति के एक प्रमुख हस्ती थे। उनका 37 वर्षों का संसदीय जीवन यहां है। वे लगातार छह वार शिवहर से विधायक और दो बार क्रमशः गोपालगंज ओर बेतिया से सांसद रहे। बिहार सरकार ने डेढ़ दर्जन से अधिक विभागों के मंत्री रहे। इसके अलावा वे केन्द्र में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सरकार ने भारी उद्योग राज्य मंत्री रहे।

स्व. झा जनता दल के गठन के बाद उसके प्रथम प्रदेश अध्यक्ष के साथ साथ सजपा ओर समता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रहे थे। साथ ही जनता विधानमंडल दल के नेता और जनता दल और समता पार्टी दल के मुख्य सचेतक भी रहे थे।  वे 1990 में मुख्यमंत्री पद का चुनाव  भी लडा था तथा लालू प्रसाद को मुख्यमंत्री बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

शिवहर जिला के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। स्व. झा अपने पीछे एक पुत्र और पुत्री सहित भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं। उनके निधन की खबर सुनते ही उसके समर्थकों ने शोक की लहर दौड़ गई है।

27 साल तक शिवहर से विधायक रहे रघुनाथ झा लालू और राबड़ी की सरकार में ताकतवर मंत्री हुआ करते थे। चारा घोटाले में लालू जब पहली बार जेल जा रहे थे तब रघुनाथ झा ने ही कहा था कि लालू को छूने की कोशिश की तो बिहार में खून की नदियां बहा देंगे। रघुनाथ झा के इस बयान के बाद ही लालू की गिरफ्तारी से पहले बिहार में सेना की तैनाती की गई थी।

1998 में नीतीश की समता पार्टी में शामिल होने के बाद रघुनाथ झा विधानसभा का उपचुनाव शिवहर से हार गए। इसके बाद 1999 में गोपालगंज से समता पार्टी के टिकट पर सांसद का चुनाव जीते। 2004 में रघुनाथ झा आरजेडी में आ गए। और बेतिया से लालू की पार्टी के टिकट पर जीतकर सांसद बन गए।  यूपीए वन में रघुनाथ झा केंद्र में मंत्री भी बने।