bsp

बालिका आश्रय गृह काण्ड को लेकर BSP बिहार प्रदेश ने सौंपा राज्यपाल को ज्ञापन

120

पटना। मुजफ्फरपुर में हुए बालिका आश्रय गृह काण्ड पूरे देश में चर्चा का विषय बनी हुई है। घटना को BSP बिहार प्रदेश मुजफ्फरपुर ने बालिका आश्रय गृह काण्ड पर अति संवेदनशील जाहिर की है। इस घटना के संबंध में बुधवार को BSP बिहार प्रदेश ने राज्यपाल को ज्ञापन देकर इस घृणित कांड के विरुद्ध में इन बिन्दुओं पर अपनी आवाज़ उठाई है। 

BSP बिहार प्रदेश द्वारा इन बिन्दुओं पर उठाया गया है- 

अपने ज्ञापन में BSP बिहार प्रदेश ने बताया कि वो बालिका आश्रय गृह काण्ड पर अति संवेदनशील है। जिस तरह से मीडिया द्वारा इस मामला का खुलासा किया गया है, कि 42 में से 34 बच्चियों की रेप की पुष्टि हो चुकी है यह बहुत ही शर्मनाक है।

साथ ही ज्ञापन में दुसरी बात यह बताया गया कि तीन लड़कियों का गर्भपात कराया है और तीन लड़कियां गर्ववती है। इतना ही नहीं वहां मौजूद बच्चियों के बलात्कार के विरोध किये जाने पर उनके हाथ पाँव बांध दिए जाते थे और विरोध करने पर बच्चियों को भूखा रखा जाता है और उन्हें नशे का इंजेक्शन भी दिया जाता था।

बता दे, आश्रम का प्रमुख संचालक बृजेश ठाकुर रसूखदार है। जो की बिहार सरकार द्वारा संरक्षित व पोषित व्यक्ति है। यह भी प्रकश में आया है कि FIR के दुसरे दिन उसका 40 लाख का टेंडर पास हुआ है। इस घटना के सीबीआई जांच का आदेश हो चूका है। साथ ही जांच एजेन्सियां अपना काम कर रही है और बार-बार राजनैतिक पार्टी द्वारा सीबीआई के कार्य पर सवाल उठाया जा रहे है।

वही इस घटना को लेकर BSP बिहार प्रदेश ने मोदी सरकार व नीतीश सरकार से आग्रह किया है कि इस प्रकार के बालिका आश्रय गृह में बच्चियों की सुरक्षा के लिए कानून बनाए।